पशुओं में होने वाले प्रमुख रोग और उनके लक्षण को जानें

जल ही जीवन है: जल संरक्षण और महत्व को समझें

विश्व जल दिवस पर भारत में जल शक्ति अभियान की शुरुआत हो रही है, जिससे लोगों को जल के महत्व को समझाया जा सके। आज बात इसी पर।

22 March 2021

  • 119 Views
  • 2 Min Read

  • जल है तो कल है...जल के बिना जीवन की कल्पना असंभव है। यही वजह है कि जल का महत्व हर आदमी को समझाने के लिए हर साल 22 मार्च के दिन विश्व जल दिवस का आयोजन किया जाता है। हर साल इसे अलग-अलग थीम पर मनाया जाता है।

     

    1992 में हुई थी शुरुआत

     

    हर साल विश्व जल दिवस पर जल संरक्षण के महत्व और तरीकों को समझाया जाता है।  1992 में रियो डि जेनेरियो के संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCED) में विश्व जल दिवस (World Water Day) की शुरुआत की गई थी। पहली बार इसका आयोजन 1993 में 22 मार्च को हुआ था। विश्व जल दिवस को इसलिए मनाया जाता है ताकि दुनियाभर के सभी विकसित देशों में स्वच्छ पेयजल मिल सके।

     

    बिना पानी नहीं है जीवन, जल है तो हमारा कल है

     

    क्या कहते हैं आंकड़े?

     

    एक रिसर्च में सामने आया है कि पृथ्वी का 95% पानी हमारा अपना है और 5% पानी किसी उल्का पिंड के जरिए आया था। हमारी धरती के 71 फीसदी हिस्से में पानी की कमी नहीं है, लेकिन आपको ये बात जानकर हैरानी होगी किइस 71 फीसदी में से महज़ 3 प्रतिशत पानी ही पीने योग्य है। मतलब साफ है कि अगर एक जग में एक चम्मच पानी ही पीने लायक है।

     

    खेती भी होती है प्रभावित

     

    कुछ सर्वे बताते हैं कि विश्व में 10 में से 4  लोग पानी की समस्या झेल रहे हैं। भारत में स्थिति और बुरी है, यहां की आधी आबादी को साफ पीने का पानी नहीं मिलता है। बात खेती की करें तो खेती की निर्भरता बारिश का पानी है। नीति आयोग की चेतावनी के मुताबिक, हालात नहीं सुधरे को  2030 तक 40% भारतीयों को पीने का पानी नहीं मिलेगा।

     

    कुछ हैरान करने वाले तथ्य

     

    • मंजन करते वक्त अगर नल बंद रखेंगे तो 2 मिनट में 18 लीटर पानी बचेगा
    • वॉटर सेविंग फ्लश हर साल करीब 700 लीटर पानी बचाता है
    • RO फिल्टर 80 फीसदी पानी को बर्बाद कर देता है
    • बाल्टी के पानी से गाड़ी धोने पर साल में 350 लीटर पानी बचाया जा सकता है
    • स्विमिंग पूल ढकने पर 300 लीटर पानी रोज़ बचता है

     

    जल शक्ति अभियान की शुरुआत

     

    वर्ल्ड वाटर डे 2021 पर भारत में जल शक्ति अभियान की शुरुआत हुई है। जल शक्ति अभियान की थीम है- Catch the rain, where it falls, when it falls...इस अभियान को 30 नवंबर तक चलाया जाएगा। इसका मकसद जनता को पानी बचाने के लिए प्रेरित करना है। 

    D\\में आम लोगों की भागीदारी सुनिश्चित कर जल संरक्षण के लिए अभियान चलाया जाएगा। जल संरक्षण से संबंधित मुद्दों पर बात की जाएगी, ग्राम पंचायतों की ग्राम सभाओं में जल संरक्षण के लिए 'जल शपथ' ली जाएगी।

    ये थी जल से जीवन को बचाने की बात लेकिन, Knitter पर आपको कृषि एवं मशीनीकरण, एजुकेशन और करियर, सरकारी योजनाओं और ग्रामीण विकास जैसे मुद्दों पर भी कई महत्वपूर्ण ब्लॉग्स मिलेंगे, जिनको पढ़कर अपना ज्ञान बढ़ा सकते हैं और दूसरों को भी इन्हें पढ़ने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।   

     

    ✍️ लेखक- नितिन गुप्ता

     



    यह भी पढ़ें



    ट्रेंडिंग टॉपिक की अन्य ब्लॉग