जानें खेती में जुताई को आसान बनाने वाली मशीनों की जानकारी

जुताई के लिए उपयोगी हैं ये मशीनें, जानें इनकी खासियत

वर्तमान में जुताई की कई आधुनिक मशीनें आ गई हैं। इससे जुताई का काम आसान हो गया है। लेकिन किसानों को इन मशीनों के बारे में पता होना भी ज़रूरी है। इन्हें जानें।

27 January 2021

  • 762 Views
  • 5 Min Read

  • खेती में बेहतर पैदावार के लिए जुताई बहुत ज़रूरी है। यही वजह है कि हमेशा से ही जुताई कृषि का महत्वपूर्ण अंग रही है। खेत की जुताई के लिए उपयोग में आने वाली मशीनें ही जुताई मशीन कहलाती हैं।

    बदलते समय के साथ जुताई के लिए आधुनिक मशीनें आ चुकी हैं। इससे जुताई आसान भी हुई है। आज Knitter के इस ब्लॉग में हम ऐसी ही कुछ मशीनों की बात करेंगे। सबसे पहले बात कुछ परंपरागत और आधुनिक संसाधनों की, जो जुताई में कारगर हैं।

     

    देसी हल

     

    किसानों को बैल या किसी अन्य जानवर की सहायता से खेत में हल खींचते हुए तो आपने देखा ही होगा। किसान इसके जरिए ज़मीन में लंबी-लंबी नाली बना देता है, मगर इससे मिट्टी उलट-पलट नहीं होती। दूसरा इससे ज़मीन समतल भी नहीं होती। फिर किसान को पाटा की ज़रूरत पड़ती है। हालांकि, इसे भी खींचता तो जानवर ही है। छोटे और बिखरे खेत में देसी हल ही कारगर है।

     

    देसी हल के लाभ-

     

    • देसी हल की जुताई से मिट्टी बची रहती है 
    • खेतों की घास अच्छी तरह से उखड़ जाती है
    • सिंचाई में आसानी होती है, ज़्यादा पानी नहीं लगता
    • हल की जुताई से बीज भी सही जगह पड़ते हैं

     

    रोटावेटर

     

    यह ट्रैक्टर के साथ काम करने वाली मशीन है। रोटावेटर को आधुनिक ज़माने का हल भी कहा जाता है। इसका उपयोग मिट्टी को तोड़ने-खोदने, बीज की बुआई में भी किया जाता है। देसी हल की जगह शामिल नई मशीनों में कल्टीवेटर और हैरो भी शामिल है।

     

    रोटावेटर के फायदे

     

    • मिट्टी की सेहत में सुधार आता है
    • मिट्टी को खेती के लिए जल्दी तैयार करता है
    • गीली ज़मीन पर भी काम करता है
    • 1.25 से 15.00 सेमी तक जुताई संभव हैं
    • फसलों का बचा कचरा हटाने में उपयोगी

     

    कल्टीवेटर

     

    कल्टीवेटर भी एक जुताई मशीन है। इसका उपयोग खरपतवार हटाकर बुआई करने के लिए किया जाता है। यह मशीन बीज रोपने से पहले मिट्टी को जोतकर उसे बारीक बनाने में मदद करती है।

     

    कल्टीवेटर के फायदे

     

    • यह गीली और सूखी मिट्टी की जुताई में उपयोगी
    • बीज की बुआई भी आसानी से की जा सकती है
    • मिट्टी को गर्म करती है, जिससे मिट्टी भुरभुरी होती है
    • खरपतवार आसानी से खत्म की जा सकती है

     

    हैरो

     

    इसे नए ज़माने का देसी हल माना जाता है। इसे डिस्क कल्टीवेटर भी कहा जाता है। इसे खींचने के लिए ट्रैक्टर का उपयोग किया जाता है। इससे मिट्टी को भुरभुरी और ज़मीन को समतल बनाया जाता है। हैरो टूल का ज़्यादा इस्तेमाल मिट्टी को काटकर उसे तोड़ने के लिए किया जाता है।

     

    हैरो मशीन के फायदे

    • धान की फसल का उत्पादन और गुणवत्ता, दोनों बढ़ती है
    • मिट्टी की गहरी जुताई करने में बेहद उपयोगी
    • खरपतवार को आसानी से नष्ट करने में कारगर

     

    पावर टिलर 

     

    यह एक ऐसी मशीन है, जिसका उपयोग खेत की जुताई से लेकर फसल की कटाई तक में किया जाता है। यह किसानों के लिए वरदान साबित हो रही है। वजह-  इसके इस्तेमाल से खेती से जुड़े अनेक काम आसानी से किए जा सकते हैं। पहले जिन कामों के लिए कई मजदूर लगते थे, अब वे काम मशीन से हो जाते हैं।

     

    पावर टिलर के फायदे

     

    • यह खेती की जुताई से लेकर फसल की बुआई-सिंचाई तक में मददगार
    • इसमें थ्रेसर, रिपर, कल्टीवेटर, बीज ड्रिल मशीन आदि भी जोड़ सकते हैं
    • यह काफी हल्की मशीन है, जिसे आसानी से कहीं भी ले जा सकते हैं
    • इसका उपयोग खरपतवार हटाने, फसल की कटाई, मड़ाई आदि में होता है

     

    परंपरागत खेती को लेकर एक पक्ष ऐसा भी

     

    बेहतर फसल के लिए किसानों को खेत में ज़्यादा जुताई न करने की भी सलाह दी जाती है। इसकी वजह है कि मशीनों के अत्यधिक इस्तेमाल से मिट्टी की उर्वरकता कम हो जाती है। इसलिए किसानों को कहा जाता है कि खेत में नमी बनाए रखने के लिए खरपतवार को वही दबाए रखें। फलों की फसलें लगाएं ताकि मिट्टी में नाइट्रोजन को बढ़ाया सके।

     

     

     खेती में जुताई के काम आने वाली उपयोगी मशीनों को जानिए

     

     

    उम्मीद करते हैं कि आपको यह ब्लॉग पसंद आया होगा। ऐसे ही उपयोगी ब्लॉग्स को पढ़ने के लिए जुड़े रहिए Knitter के साथ।

     

    लेखक- हिमांशु दुबे

     



    यह भी पढ़ें



    मशीनीकरण की अन्य ब्लॉग