यहां बन रहा है दुनिया का सबसे ऊंचा रेलवे पुल

चिनाब नदी पर बन रहा सबसे ऊंचा रेलवे पुल बढ़ाएगा भारत की शान

जम्मू-कश्मीर में दुनिया का सबसे ऊंचा रेलवे पुल तैयार किया जा रहा है। ये पुल एफिल टावर की ऊंचाई को भी पार कर जाएगा। आइए, इस पर एक नज़र डालें।

29 March 2021

  • 102 Views
  • 2 Min Read

  • जम्मू-कश्मीर की चिनाब नदी पर दुनिया का सबसे ऊंचा रेलवे पुल बनाया जा रहा है। नदी से करीब 359 मीटर की ऊंचाई पर बनने वाला ये पुल पेरिस के एफिल टावर को भी मात देगा। फिलहाल, पुल पर अंतिम चरण का काम चल रहा है, जो कि बहुत जल्द पूरा कर लिया जाएगा।

     

    एफिल टावर ऐसे रह जाएगा पीछे

     

    रेलवे की मानें, तो ये पुल पेरिस के एफिल टावर से भी 35 मीटर ऊंचा होगा। आपको बता दें कि एफिल टावर की ऊंचाई 324 मीटर है, जबकि चिनाब पर बनने वाला ये पुल 359 मीटर ऊंचा होगा। वहीं, यदि लंबाई की बात करें, तो इसकी लंबाई करीब 1,315 मीटर होगी।

     

     

    चीन को भी होगी चिंता

     

    ये पुल हमारे पड़ोसी देश चीन की चिंता का कारण भी बन सकता है। पहली वजह तो ये कि चिनाब का ये पुल चीन की बीपन नदी पर बने शुईबाई रेलवे पुल की 275 मीटर की रिकॉर्ड ऊंचाई को पार कर लेगा। वहीं, जानकारों का यह भी मानना है कि इससे भारत को कुछ रणनीतिक लाभ भी मिलेंगे।

     

    बेजोड़ ताकत का नमूना है ये पुल

     

    ये पुल इतना शक्तिशाली होगा कि रिक्टर स्केल पर 7-8 तीव्रता का भूकंप भी इस पुल को नुकसान नहीं पहुंचा पाएगा। वहीं, 266 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से आने वाले तूफान में भी पुल टस से मस नहीं होगा। 

     

    इसके अलावा ये हाई इंटेसिटी वाले धमाकों को भी झेलने की क्षमता रखता है। आपको बता दें कि इस पुल को बनाने में करीब 25 हज़ार मीट्रिक टन स्टील का इस्तेमाल किया गया है। ये इस पुल को अद्वितीय मज़बूती प्रदान करता है।

     

    2022 में शुरू होगी आवाजाही

     

    रेलवे से मिली जानकारी के अनुसार, साल 2022 से इस पुल पर आवाजाही शुरू होने की संभावना है। इस पुल पर ट्रेन 100 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से आसानी से दौड़ सकेगी। ये पुल घाटी को देश के अन्य हिस्सों से जोड़ने में भी मदद करेगा।

     

    पुल निर्माण की ज़िम्मेदारी

     

    इस रेलवे पुल के निर्माण की ज़िम्मेदारी कोंकण रेलवे कॉर्पोरेशन लिमिटेड (KRCL) के कंधों पर है। ये रेलवे की उधमपुर-श्रीनगर-बारामूला रेल लिंक परियोजना का हिस्सा है। यहां बताना ज़रूरी है कि कोंकण रेलवे सालों से इस पर काम कर रही है। रेलवे अधिकारियों के अनुसार, इस पुल को बनाने के दौरान उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा है।

     

    करीब 4,000 इंजीनियर्स, लेबर और टेक्निकल स्टाफ की टीम ने दिन-रात मेहनत करके इस पुल को बनाया है, जिसका काम अंतिम चरणों में है। इस पर करीब 12,000 करोड़ रुपये से भी अधिक की लागत आई है।

     

    खास है इंफ्रास्ट्रक्चर

     

    इस पुल का इंफ्रास्ट्रक्चर काफी खास है। डिज़ाइन के मामले में ये पुल बहुत अलग नज़र आता है। इसे आर्क स्टाइल में तैयार किया जा रहा है। जानकारों का मानना है कि ये पुल दुनिया के बेस्ट आर्किटेक्चर डिज़ाइन्स में से एक है।  

     

    हमें उम्मीद है कि आपको Knitter का यह ब्लॉग पसंद आया होगा। यहां आपको ट्रेंडिंग टॉपिक्स के अलावा बिज़नेस, कृषि एवं मशीनीकरण, एजुकेशन और करियर, सरकारी योजनाओं और ग्रामीण विकास जैसे मुद्दों पर भी कई महत्वपूर्ण ब्लॉग्स मिलेंगे। आप इनको पढ़कर अपना ज्ञान बढ़ा सकते हैं और दूसरों को भी इन्हें पढ़ने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

     

    लेखक- कुंदन भूत

     



    यह भी पढ़ें



    ट्रेंडिंग टॉपिक की अन्य ब्लॉग