अचानक फेल हुआ सिस्टम, 35 किलोमीटर उल्टी दौड़ी ट्रेन

35 किलोमीटर तक उल्टी चलती रही ट्रेन, टला बड़ा हादसा

ज़रा सोचिए, जिस ट्रेन में आप बैठे हैं वो उल्टी दिशा में चलने लगे तो आपको लगेगा कि थोड़ी देर में सब ठीक हो जाएगा। लेकिन, ऐसा न हो तो?

19 March 2021

  • 236 Views
  • 2 Min Read

  • ट्रेन के सफर में सही दिशा की रफ्तार रोमांच पैदा करती है। लेकिन, जब वही रफ्तार दिशा भटक जाती है तो यात्रियों की बेचैनी बढ़ना लाज़िमी है। कुछ ऐसा ही हुआ उत्तराखंड में, जहां अपनी मंज़िल पर जा रही ट्रेन अपनी दिशा से भटक गई। करीब 35 किलोमीटर तक ये ट्रेन उल्टी दिशा में दौड़ती रही, जिससे यात्रियों के दिलों की धड़कन भी बढ़ गई।

     

    टल गया एक बड़ा हादसा

     

    ये  घटना उत्तराखंड के खटीमा-टनकपुर के बीच हुई। जहां दिल्ली से टनकपुर की ओर जा रही पूर्णागिरी जनशताब्दी एक्सप्रेस अचानक से उल्टी दिशा में दौड़ने लगी। थोड़ी बहुत नहीं बल्कि 35 किलोमीटर तक ये ट्रेन उल्टी ही चलती रही। बहुत कोशिशों के बाद ट्रेन को रोका गया, तो पता चला कि रेल गाड़ी का कंट्रोलिंग सिस्टम फेल हो चुका था। 

     

    इसलिए रिवर्स चलने लगी ट्रेन

     

    ट्रेन के उल्टे चलने का ये वीडियो सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो गया। जानकारी के अनुसार, ट्रेन के आगे कुछ मवेशियों का जमावड़ा था। तेज़ रफ्तार ट्रेन को रोकने के लिए और मवेशियों को बचाने के लिए ड्राइवर ने अचानक ब्रेक लगा दिए। ब्रेक लगाते ही तकनीकी खराबी का पता चला और ट्रेन का कंट्रोलिंग सिस्टम फेल हो गया, इसके बाद ट्रेन रिवर्स चलने लगी। फिलहाल रेलवे के अधिकारी इस बात की जांच कर रहे हैं कि ट्रेन आखिर उल्टी दिशा में क्यों चलने लगी?

     

    35 किमी पीछे चली ट्रेन

     

    बताया जा रहा है कि ट्रेन ने बनबसा से उल्‍टी दिशा में चलना शुरू कर दिया था। ये ट्रेन करीब 35 किलोमीटर तक इसी रफ्तार से दौड़ती रही। खटीमा के चकरपुर में इसे रोका गया। इस वीडियो में आप साफ देख सकते हैं कि ट्रेन की रफ्तार बहुत तेज़ है। आपको बता दें कि चकरपुर, देहरादून से करीब 330 किलोमीटर दूर है। आखिरकार, ट्रेन के रुकने के बाद यात्रियों ने राहत की सांस ली। एक बड़ा हादसा होते-होते टल गया। 

     

    लोको पायलट और गार्ड निलंबित

     

    हादसा टल गया, लेकिन लापरवाही को लेकर अधिकारी जांच कर रहे हैं। फिलहाल ट्रेन चलाने वाले ड्राइवर और गार्ड को सस्पेंड कर दिया गया है। नॉर्थ इस्टर्न रेलवे ने सोशल मीडिया पर इसकी जानकारी शेयर की है।

     

    इसमें कहा गया है कि ‘17.03.2021 को खटीमा-टनकपुर सेक्शन के बीच मवेशी के कारण एक घटना घटी। ट्रेन खटीमा यार्ड से थोड़ी ही दूर सुरक्षित रूप से रुक गई। कोई भी कोच पटरी से नहीं उतरा और सभी यात्रियों को सुरक्षित टनकपुर पहुंचाया गया। लोको पायलट और गार्ड को निलंबित कर दिया गया है।’

     

    तो ये थी ट्रेन के दिशा बदलने पर हुए बवाल की बात लेकिन Knitter पर आपको कृषि एवं मशीनीकरण, एजुकेशन और करियर, सरकारी योजनाओं और ग्रामीण विकास जैसे मुद्दों पर भी कई महत्वपूर्ण ब्लॉग्स मिलेंगे, जिनको पढ़कर आप अपना ज्ञान बढ़ा सकते हैं और दूसरों को भी इन्हें पढ़ने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।   

     

    ✍️ लेखक- नितिन गुप्ता

     



    यह भी पढ़ें



    ट्रेंडिंग टॉपिक की अन्य ब्लॉग