सोशल मीडिया यूज़ करते हैं, तो नई गाइडलाइन भी जान लीजिए

OTT प्लेटफॉर्म्स पर सरकार हुई सख्त, नई गाइडलाइन की जारी

सोशल मीडिया और ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर नकेल कसने के लिए सरकार ने नई गाइडलाइन जारी की है। जल्द ही उन्हें लागू किया जाएगा। ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स की जवाबदेही तय होगी।

02 March 2021

  • 235 Views
  • 2 Min Read

  • सोशल मीडिया और ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर एक्टिव लोगों के लिए एक बड़ी खबर है। सरकार ने इन प्लेटफॉर्म्स के लिए नई गाइडलाइन जारी की है, जिससे काफी कुछ बदल जाएगा। अब डिजिटल मीडिया को भी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की तरह सेल्फ रेगुलशन पर ज़ोर देना होगा। संक्षेप में कहें, तो इन प्लेटफॉर्म्स को अब पहले से अधिक जवाबदेह बनना पड़ेगा।

     

    3 महीने में लागू होंगे नए नियम:

     

    आपको बता दें कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के लिए बनाए गए ये नियम अगले तीन महीने में लागू कर दिए जाएंगे। सरकार ने साफ किया है कि इन नियमों का पालन कड़ाई से करना होगा।

     

    यूज़र वेरिफिकेशन होगा ज़रूरी:

     

    नई गाइडलाइन्स में यूज़र वेरिफिकेशन पर खास ज़ोर दिया गया है। सरकार ने साफ किया है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को अपने यूज़र्स का वेरिफिकेशन करना होगा। सरकार सीधे तौर पर इस काम में कोई हस्तक्षेप नहीं करेगी, लेकिन इन प्लेटफॉर्म्स को खुद इस काम की ज़िम्मेदारी लेनी पड़ेगी।

     

    हर महीने देनी पड़ेगी रिपोर्ट:

     

    केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने अपने बयान में ये बात भी कही कि आपत्तिजनक कंटेंट के लिए इन प्लेटफॉर्म्स पर कोई जगह नहीं होगी। यदि कोई ऐसा कंटेंट पाया जाता है, तो उसे 24 घंटे के अंदर हटाना होगा। 

     

    साथ ही ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स को ऐसे नोडल अधिकारियों की नियुक्ति भी करनी होगी, जो इन्फोर्समेंट एजेंसियों के साथ 24x7 तालमेल बनाकर रख सकें। हर महीने ये भी बताना होगा कि उन्हें कितनी शिकायतें मिली हैं और कितनों पर एक्शन लिया गया है।

     

     

     

    आइए, कुछ प्रमुख नियमों को जान लेते हैं:

     

    सोशल मीडिया के लिए नए नियम-

     

    • 24 घंटे में आपत्तिजनक कंटेंट हटाना होगा
    • कंटेंट हटाने से पूर्व उसका कारण बताना होगा
    • एक ग्रीवांस मेकेनिज़्म तैयार करना होगा
    • हर महीने शिकायत पर हुई कार्रवाई का ब्योरा देना होगा
    • चीफ कंप्लायंस अधिकारी की नियुक्ति करनी होगी
    • इन्फोर्समेंट एजेंसियों के साथ 24x7 तालमेल के लिए नोडल अधिकारी की नियुक्ति करनी होगी

     

    ओटीटी के लिए नए नियम:

     

    • टीवी और सिनेमा की तरह एथिक्स कोड का पालन करना होगा
    • दर्शकों की उम्र के मुताबिक कंटेंट कैटेगरी तय करनी होगी
    • U, U/A 7+, U/A 13+, U/A 16+ और A जैसी 5 कैटेगरी होगी
    • U/A 13+ और उससे ऊपर की कैटेगरी के लिए पैरेंटल लॉक अनिवार्य होगा
    • ओटीटी प्लेटफॉर्म्स को एक सेल्फ रेगुलेटरी बॉडी का गठन करना होगा
    • फेक कंटेंट डालने पर कड़ी कार्रवाई होगी

     

    भारत में पॉपुलर ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स का यूज़र बेस

     

    प्लेटफॉर्म

    यूज़र बेस

    व्हाट्सऐप

    53 करोड़

    यूट्यूब

    44.8 करोड़

    फेसबुक

    40 करोड़

    इंस्टाग्राम

    21 करोड़

    हॉटस्टार

    2.8 करोड़

    नेटफ्लिक्स (एशिया-पैसिफिक क्षेत्र)

    2.5 करोड़

    एमेज़ॉन प्राइम

    1 करोड़

     

    हमें उम्मीद है कि आपको Knitter का यह ब्लॉग पसंद आया होगा। Knitter पर आपको ट्रेंडिंग के अलावा बिज़नेस, कृषि एवं मशीनीकरण, एजुकेशन और करियर, सरकारी योजनाओं और ग्रामीण विकास जैसे मुद्दों पर भी कई महत्वपूर्ण ब्लॉग्स मिलेंगे। आप इनको पढ़कर अपना ज्ञान बढ़ा सकते हैं और दूसरों को भी इन्हें पढ़ने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।  

     

     

    लेखक- कुंदन भूत

     



    यह भी पढ़ें



    ट्रेंडिंग टॉपिक की अन्य ब्लॉग