एमपी सोलर पम्प योजना के पम्पों की क्षमता को जानें

एमपी सोलर पम्प योजना के पम्पों की क्षमता को जानें

मुख्यमंत्री सोलर पम्प योजना किसानों को एक मज़बूत सिंचाई व्यवस्था प्रदान कर रही है। आइए इसके तहत मिलने वाले सोलर पम्पों की क्षमता पर नज़र डालते हैं।


कहते हैं ‘वक्त’ तभी बदलता है जब आप उसे बदलने का ‘इरादा’ रखते हैं। मध्यप्रदेश की मुख्यमंत्री सोलर पम्प योजना को देखकर कुछ ऐसा ही लगता है, जहां किसानों की स्थिति सुधारने के लिए सरकार उन्हें सब्सिडी पर सोलर पम्प दे रही है। अच्छी बात ये है कि किसानों के पास यह विकल्प है कि वे अपने खेतों के अनुरूप पम्प का चयन कर सकते हैं। तो चलिए, इस ब्लॉग के ज़रिए यह जानने का प्रयास करते हैं कि किसानों को किस तरह के पम्प मुहैया कराए जा रहे हैं और उनकी क्षमता क्या है? लेकिन इससे पहले एक बार संक्षेप में इस योजना को भी जान लेते हैं।

 

क्या है यह योजना:

 

‘मुख्यमंत्री सोलर पम्प योजना’ का मकसद राज्य में सिंचाई व्यवस्था बेहतर बनाना है। इस योजना के तहत किसानों को सोलर पम्प लगाने के लिए तकरीबन 90 प्रतिशत तक की सब्सिडी दी जाती है। आपको बता दें कि सरकार अगले 5 वर्षों में करीब 2 लाख किसानों तक इस योजना का लाभ पहुंचाएगी।

योजना तो हमने समझ ली। तो चलिए, अब इसके अंतर्गत मिलने वाले अलग-अलग सोलर पम्पों के बारे में भी जान लेते हैं ताकि आप अपने खेतों के लिए सही पम्प का चयन कर सकें।

 

सोलर पम्प के प्रकार:

 

इस योजना के अंतर्गत दो तरह के पम्प दिए जा रहे हैं। पहला है सर्फेस पम्प और दूसरा है सबमर्सिबल पम्प। किसान अपनी आवश्यकता अनुरूप इनमें से किसी एक का चुनाव कर सकते हैं।  आइए, इन दोनों के बीच अंतर को समझते हैं।

 

सर्फेस पम्प:

 

सर्फेस पम्प (Surface Pump) वो पम्प होते हैं जिनका इस्तेमाल पानी के सतही स्रोतों के लिए किया जाता है। जैसे कि कुएं व तालाब आदि। इस तरह के सोलर पम्प को उन जगहों पर उपयोग में लाया जाता है, जहां पानी की गहराई 15 मीटर से कम होती है।

 

सबमर्सिबल पम्प:

 

सबमर्सिबल पम्प वो पम्प होते हैं जो पानी के अंदर लगाए जाते हैं। इस तरह के सोलर पम्प वहां उपयोगी साबित होते हैं, जहां पानी 15 मीटर से अधिक गहरा होता है।

ये तो हुई बात सोलर पम्प की। अब आती है इन पम्पों की क्षमता की बारी क्योंकि इनकी क्षमता ही आपके खेतों का भविष्य तय करेगी। इस बीच हमारा यह जानना भी ज़रूरी है कि आख़िर इस योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को कितना भुगतान करना पड़ेगा। इसलिए हम एक तालिका के ज़रिए इन सारी बातों पर प्रकाश डालने का प्रयास करेंगे, जिससे हमारे किसान भाइयों को इस योजना की पूरी जानकारी मिल सकेगी।

 

 

योजना से जुड़ी जानकारी

 

पम्प के प्रकार

किसान का योगदान (रु. में)

उपयोगिता

डिस्चार्ज क्षमता

(प्रतिदिन लीटर में)

1.

1 हॉर्स पॉवर डी.सी. सबमर्सिबल पम्प

19,000

30 मीटर के लिए

45600

2.

2 हॉर्स पॉवर डी.सी. सर्फेस पम्प

23,000

10 मीटर के लिए

198000

3.

2 हॉर्स पॉवर डी.सी. सबमर्सिबल पम्प

25,000

30 मीटर के लिए

68400

4.

3 हॉर्स पॉवर डी.सी. सबमर्सिबल पम्प

36,000

30 मीटर के लिए

50 मीटर के लिए

70 मीटर के लिए

114000

 

69000

 

  45000

5.

5 हॉर्स पॉवर डी.सी. सबमर्सिबल पम्प

72,000

50 मीटर के लिए

70 मीटर के लिए

100 मीटर के लिए

110400

 

72000

 

50400

6.

7.5 हॉर्स पॉवर डी.सी.सबमर्सिबल पम्प

1,35,000

50 मीटर के लिए

70 मीटर के लिए

100 मीटर के लिए

155250

 

101250

      70875

7.

7.5 हॉर्स पॉवर ए.सी. सबमर्सिबल पम्प

1,35,000

50 मीटर के लिए

70 मीटर के लिए

100 मीटर के लिए

141750

 

94500

 

60750

8.

10 हॉर्स पॉवर डी.सी. सबमर्सिबल पम्प

2,17,840

50 मीटर के लिए

70 मीटर के लिए

100 मीटर के लिए

207000

 

135000

 

94500

9.

10 हॉर्स पॉवर ए.सी. सबमर्सिबल पम्प

2,17,250

50 मीटर के लिए 

70 मीटर के लिए

100 मीटर के लिए

189000

 

126000

 

81000

 

 



यह भी पढ़ें



राज्य सरकार की योजनाएं की अन्य ब्लॉग