इन योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं अल्पसंख्यक समुदाय के छात्र

इन योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं अल्पसंख्यक समुदाय के छात्र

अल्पसंख्यक समुदाय से आने वाले गरीब वर्गों के छात्रों को सरकार द्वारा तीन योजनाओं के माध्यम से दी जाती है स्कॉलरशिप।

13 January 2021

  • 710 Views
  • 6 Min Read

  • भारत में अल्पसंख्यक समुदाय से आने वाले विभिन्न वर्गों के उत्थान के लिए कई योजनाएं चलाई जाती हैं। इनमें स्टूडेंट्स के लिए चलाई जाने वाली स्कॉलरशिप योजनाएं भी शामिल हैं। यदि आप भी भारत के अल्पसंख्यक समुदायों (मुस्लिम, सिख, ईसाई, बौद्ध, पारसी या जैन) से संबंध रखते हैं तो ये ब्लॉग आपके लिए है। इस ब्लॉग में हम अल्पसंख्यक मंत्रालय द्वारा चलाई जाने वाली तीन स्कॉलरशिप योजनाओं की बात करेंगे, जिससे पहली से लेकर पीएचडी तक की पढ़ाई के लिए सरकार से आर्थिक मदद मिलती है। तो इस ब्लॉग में योजनाओं से जुड़ी सभी बातों को ध्यान से पढ़ें और यदि आप इनके पात्र हैं तो लाभ ज़रूर उठाएं।

     

    क्या हैं अल्पसंख्यक छात्रवृति योजनाएं

     

    इन योजनाओं के तहत भारत के विभिन्न अल्पसंख्यक समुदायों से आने वाले आर्थिक रूप से कमज़ोर विद्यार्थियों को पढ़ाई में आर्थिक मदद देकर उन्हें बेहतर रोज़गार पाने के काबिल बनाया जाता है। इसके तहत लाभार्थियों को ‘प्री मैट्रिक’, ‘पोस्ट मैट्रिक’, मेरिट कम मीन्स स्कॉलरशिप दी जाती है। इनमें पहली से लेकर पीएचडी तक की पढ़ाई के लिए अलग-अलग स्कॉलरशिप मुहैया करवाई जाती है।

     

    इन योजनाओं की शुरुआत ‘अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिए 15 सूत्रीय कार्यक्रम’ के अंतर्गत जून 2006 में की गई थी। अल्पसंख्यक छात्रवृति योजनाएं अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा संचालित की जाती हैं। अल्पसंख्यक समुदाय के छात्र सरकार द्वारा चलाई जा रही इन तीन योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं। 

     

    1.    प्री मैट्रिक स्कॉलरशिप स्कीम: प्री-मैट्रिक स्कीम के तहत पहली कक्षा से 10वीं तक के छात्रों को स्कॉलरशिप दी जाती है।

    2.    पोस्ट-मैट्रिक स्कॉलरशिप स्कीम: इसमें 11वीं क्लास से पीएचडी तक के छात्रों को स्कॉलरशिप प्रदान की जाती है।

    3.    मेरिट कम मीन्स स्कॉलरशिप स्कीम: यह स्कॉलरशिप अल्पसंख्यक समुदायों के उन छात्रों को मिलती है जो अंडर गेजुएट या पोस्ट ग्रेजुएट स्तर के मैनेजमेंट और तकनीकी कोर्स की पढ़ाई करते हैं।

     

    योजनाओं का उद्देश्य

    • अल्पसंख्यक समुदाय से संबंधित अभिभावकों को बच्चों को स्कूल भेजने के लिए प्रेरित करना।
    • अल्पसंख्यक गरीब वर्गों के आर्थिक बोझ को कम करना।
    • अल्पसंख्यक समुदायों के बच्चों को अच्छी शिक्षा के अवसर प्रदान करना।
    • मेधावी छात्रों को स्कॉलरशिप प्रदान करना।
    • छात्रों को पेशेवर और तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करना।

    अल्पसंख्यक छात्रवृति योजनाएं

    योजनाओं के तहत मिलने वाले लाभ

     

    प्री-मैट्रिक योजना के तहत मिलने वाले लाभ

    इस योजना के तहत पहली से 10वीं तक के छात्रों को स्कॉलरशिप मुहैया करवाई जाती है। ये सारे लाभ एक साल में 10 महीनों के लिए ही मिलते हैं।

     

     

    मिलने वाली स्कॉलरशिप की राशि

    एडमिशन फीस + ट्यूशन फीस

     

    क्लास 6th से 10th के लिए मिलने वाली एडमिशन फीस - 500 रुपये सालाना

    क्लास 6th से 10th के लिए मिलने वाली ट्यूशन फीस- 350 रुपये प्रति माह 

    रख-रखाव के लिए

    भत्ता

     

    1st से 5th क्लास तक- 100 रुपये प्रति माह

    6th से 10th क्लास तक-

    600 रुपये प्रति माह होस्टलर के लिए/ 100 रुपये प्रति माह डे-स्कॉलर के लिए 

     

    पोस्ट मैट्रिक योजना 

     

    10वीं के बाद पीएचडी तक के छात्र इस योजना के पात्र होते हैं। इसके तहत 11वीं 12वीं, अंडरग्रेजुएट, पोस्टग्रेजुएट, एमफिल और पीएचडी कोर्सेज के लिए स्कॉलरशिप दी जाती है।

     

     

    योजना के तहत मिलने वाली स्कॉलरशिप की राशि

    एडमिशन फीस + ट्यूशन फीस

     

    11वीं और 12वीं कक्षा के लिए- 7000 रुपये सालाना

    10वीं के बाद कराए जाने वाले टेक्निकल और वोकेशनल कोर्सेज के लिए- 10000 रुपये सालाना

    UG और PG डिग्रियों के लिए- 3000 रुपये सालाना

    रख-रखाव के लिए

    भत्ता

     

    11वीं,12वीं और टेक्निकल/वोकेशनल कोर्सेज के लिए-

    380 रुपये प्रतिमाह होस्टलर को/ 230 रुपये प्रतिमाह डे-स्कॉलर को

    UG और PG डिग्रियों के लिए-

    570 रुपये प्रतिमाह होस्टलर को/ 300 रुपये प्रतिमाह डे-स्कॉलर को

    एमफिल और पीएचडी के छात्रों के लिए-

    1200 रुपये प्रतिमाह होस्टलर को/ 550 रुपये प्रतिमाह डे-स्कॉलर को

     

    मेरिट कम मीन्स योजना के तहत

     

    इस योजना के तहत मैनेजमेंट और टेक्निकल कोर्सेज करने के लिए स्कॉलरशिप प्रदान की जाती है।

     

     

    योजना के तहत मिलने वाली स्कॉलरशिप की राशि

    एडमिशन फीस + ट्यूशन फीस

    अधिकतम 20,000 रुपये सालाना या असल में लगने वाली फीस

    रख-रखाव के लिए

    भत्ता

    होस्टलर्स के लिए 1000 रुपये प्रतिमाह

    डे-स्कॉलर्स के लिए 500 रुपये प्रतिमाह

     

    योजनाओं का लाभ लेने की योग्यता और शर्तें

    • छात्र अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित होना चाहिए।
    • मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थान से रेगुलर छात्र के तौर पर पढ़ाई कर रहा हो।
    • किसी अन्य स्कॉलरशिप योजना का लाभ न ले रहा हो।
    • एक परिवार के केवल दो ही छात्र स्कॉलरशिप योजना का लाभ ले पाएंगे।
    • पिछली कक्षा में 50 प्रतिशत अंक लाने पर ही अगली कक्षा में स्कॉलरशिप दी जाएगी। (प्री-मैट्रिक स्कीम में पहली कक्षा के लिए ये शर्त लागू नहीं होगी)
    • परिवार की आय
      • प्री मैट्रिक स्कीम के लिए- 1 लाख रुपये से कम
      • पोस्ट मैट्रिक स्कीम के लिए- 2 लाख रुपये से कम
      • मेरिट कम मीन्स स्कीम के लिए- 2.5 लाख रुपये से कम

     

    ज़रूरी डॉक्यूमेंट्स

    • आधार कार्ड
    • आय प्रमाण पत्र 
    • निवास प्रमाण पत्र
    • अल्पसंख्यक प्रमाण पत्र
    • फीस की रसीद 
    • पिछली कक्षा की मार्कशीट

     

    अप्लाई करने की प्रक्रिया

     

    तीनों योजनाओं के लिए अप्लाई करने की प्रक्रिया लगभग एक समान है। यदि आप तीनों में से किसी भी योजना के पात्र हैं तो आप नीचे लिखी बातों को ध्यान में रखकर स्कॉलरशिप योजना का लाभ उठा सकते हैं:

     

    • भारत सरकार के अल्पसंख्यक मंत्रालय की ऑफिशियल वेबसाइट www.minorityaffairs.gov.in/ पर जाएं।
    • अप्लाई ऑनलाइन मेनू में जाकर प्री मैट्रिक, पोस्ट मैट्रिक या मेरिट कम मीन्स योजना सिलेक्ट करें।
    • योजना से संबंधित फॉर्म में मांगी गई सारी जानकारियां सावधानी से भरें।
    • जानकारियां भरने के बाद सभी ज़रूरी दस्तावेज़ों के साथ पासपोर्ट फोटो और  हस्ताक्षर की स्कैन की गई कॉपी अपलोड करें।
    • सभी जानकारियों को एक बार जांचने के बाद फॉर्म सब्मिट कर दें।
    • मंत्रालय द्वारा सभी आवेदन जांचे जाएंगे और मेरिट लिस्ट तैयार की जाएगी।
    • मेरिट लिस्ट आय को आधार मानकर बनाई जाएगी। हर साल योजना के तहत सीमित छात्रों को ही लाभ मिलता है।
    • मेरिट में आए छात्रों के खाते में मंत्रालय द्वारा स्कॉलरशिप जमा करवाई जाएगी।
    • कोर्स की अवधि तक हर साल छात्र को स्कॉलरशिप का नवीनीकरण करवाना होगा।

     

    आप या आपका कोई परिचित इन योजनाओं के दायरे में आता है तो इनका लाभ ज़रूर उठाएं और पढ़ाई के लिए सरकार से स्कॉलरशिप लें। इसके अलावा ज़रूरतमंदों और होनहारों के लिए सरकार द्वारा कई छात्रवृति योजनाएं चलाई जा रही हैं, जिनकी जानकारी आप हमारे चैनल पर ले सकते हैं और उनका फायदा उठा सकते हैं।

    स्कॉलरशिप की अन्य ब्लॉग