मेरी फसल मेरा ब्यौरा- एक पोर्टल पर किसानों को मिलेगी सभी सुव

बस अपने खेत का ब्यौरा दीजिए, सरकार करेगी आपकी फसल की चिंता

‘मेरी फसल, मेरा ब्यौरा योजना’ से किसानों को एक की पोर्टल पर खेती से जुड़ी कई सुविधाएं मिल रही हैं। इस योजना से जुड़ी सभी जानकारियां इस ब्लॉग में साझा की गई हैं।


 

आज भारत के गांव-गांव तक इंटरनेट सुविधा पहुंचने लगी है। शॉपिंग हो या पढ़ाई, अब  सारा काम ऑनलाइन माध्यमों से होने लगा है। किसान भी कृषि संबंधी सुविधाओं का लाभ ऑनलाइन ले सकें इसके लिए हरियाणा सरकार ने 'मेरी फसल मेरा ब्यौरा योजना' की शुरुआत की है। इसके माध्यम से किसान अपने खेतों और फसलों का ब्यौरा एक ही पोर्टल पर साझा करेंगे और यहीं पर मंडियों के भाव, नई योजनाएं, सरकारी सहायताओं व खेती से संबंधित अन्य जानकारियां भी ले सकेंगे।

 

इस योजना का सबसे ज्यादा लाभ किसानों को कोरोना संकट के दौरान लगे लॉकडाउन में मिला। किसानों ने अपनी फसलों का ब्यौरा पोर्टल पर डाला और सुविधानुसार मंडियों में अपनी फसल बेच पाए। योजना का लाभ उठाने के लिए किसानों को 'मेरी फसल मेरा ब्यौरा' पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण करना आवश्यक है। Knitter के इस ब्लॉग में हम इस योजना के सभी पहलुओं पर बात करेंगे, जिससे आप इस योजना से जुड़ने की प्रक्रिया और फायदे आसान भाषा में समझ पाएंगे।

 

क्या है मेरी फसल मेरा ब्यौरा योजना ?

हरियाणा सरकार की 'मेरी फसल मेरा ब्यौरा' योजना के तहत किसानों को एक ही पोर्टल पर ला कर सारी जानकारियां दी जाती हैं। ये योजना 5 जुलाई 2019 को शुरू की गई थी।

 

हरियाणा सरकार द्वारा संचालित इस पोर्टल पर खाद, बीज, कृषि उपकरण, मिलने वाली विभिन्न सब्सिडी, फसल की कटाई-बुआई की जानकारियां और अन्य सरकारी सुविधाएं किसानों को एक ही जगह पर मुहैया करवाई जाती हैं।

 

योजना का उद्देश्य

  • किसानों के लिए एक ही जगह पर सारी सरकारी सुविधाओं की उपलब्धता और समस्याओं का निवारण।
  • किसानों को कृषि संबंधित जानकारियां समय पर उपलब्ध करवाना।
  • खाद्य ,बीज ,ऋण एवं कृषि उपकरणों की सब्सिडी समय पर उपलब्ध करवाना।
  • फसल की बुवाई-कटाई का समय और मंडी संबंधित जानकारी उपलब्ध करवाना।
  • प्राकृतिक आपदा के दौरान सही समय पर सहायता दिलाना।

योजना के लाभ 

  • एक ही मंच पर कृषि से जुड़ी सभी जानकारियां
  • सरकारी कार्यालयों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे
  • ऑनलाइन ही मंडी का गेट पास मुहैया हो जाएगा 
  • किसानों की फसलों की खरीद प्रक्रिया में आसानी
  • रजिस्टर्ड किसानों को सीधे तौर पर सरकारी योजनाओं का लाभ मिलेगा

पोर्टल पर पंजीकरण के लिए जरूरी दस्तावेज और शर्तें

  • आवेदक हरियाणा का स्थायी निवासी होना चाहिए
  • आवेदक का आधार कार्ड
  • फसल के नाम /किस्में /बुआई का समय
  • बैंक पासबुक की कॉपी
  • मोबाइल नंबर
  • ज़मीन के कागज़ात

पंजीकरण की प्रक्रिया

  • सबसे पहले योजना की आधिकारिक वेबसाइट fasal.haryana.gov.in पर जाएं
  • होमपेज पर 'पंजीकरण' बटन पर क्लिक करें
  • अब आपके सामने योजना से संबंधित रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुलेगा
  • अब आधार नंबर या मोबाइल नंबर डालकर ओटीपी सत्यापन करें
  • इसके बाद आपको अपने खेतों और फसलों का विवरण देना होगा
  • अगले ऑप्शन में आप अपने बैंक खाते की जानकारी लिखेंगे
  • इसके बाद किसान अपनी मंडी/आढ़त को चुनेंगे (ये ऑप्शन वैकल्पिक रहेगा, यदि आप मंडी में फसल ऑनलाइन बेचना चाहते हैं तो हरियाणा राज्य की कोई भी  मंडी चुन सकते हैं।
  • सभी जानकारियां भरने के बाद सब्मिट बटन पर क्लिक करें।
  • आपको एक लॉगिन आईडी और पासवर्ड प्राप्त होगा, जिससे आप 'मेरी फसल मेरा ब्यौरा' पोर्टल पर लॉगिन कर पाएंगे।
  • इस पोर्टल पर लॉगिन करने के बाद आप कृषि से जुड़ी जानकारियां ले पाएंगे। साथ ही आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर भी आपको जानकारियां मिलती रहेंगी।

 

इस पोर्टल पर आप अपनी फसलों का ब्यौरा देकर मंडी में फसल ले जाने का समय भी चुन सकते हैं। जिससे आपको ऑनलाइन ही गेट पास मुहैया करवाया जाएगा और आप मंडी में अपनी सुविधानुसार अपनी फसल बेच पाएंगे। उम्मीद है इस ब्लॉग में आपको योजना से जुड़े सभी सवालों के जवाब मिले होंगे। Knitter ऐप पर सरकार द्वारा किसानों के लिए चलाई जा रही अन्य कई योजनाओं की जानकारी भी उपलब्ध है, जिनके बारे में जानकारी लेकर आप उनका लाभ उठा सकते हैं।

 



यह भी पढ़ें



राज्य सरकार की योजनाएं की अन्य ब्लॉग