क्या आप जानते हैं तेल के पीछे का ये खेल?

जानिए पेट्रोल-डीज़ल की बढ़ती कीमत का गणित

कच्चा तेल सस्ता होने के बाद भी पेट्रोल-डीज़ल महंगा क्यों होता है? पेट्रोल-डीज़ल के दाम हर दिन क्यों बढ़ रहे हैं? आपके सारे सवालों के जवाब मिलेंगे Knitter पर

17 February 2021

  • 209 Views
  • 2 Min Read

  • पेट्रोल-डीज़ल की बढ़ती कीमत ने हर इंसान की नींद उड़ा रखी है। इसकी वजह है तेल के इस खेल का महंगाई से कनेक्शन। इसलिए तेल के इस खेल को समझना ज़रूरी है।

     

    अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल (crude oil) की कीमत और पेट्रोल-डीज़ल की रिटेल कीमत का सीधा कनेक्शन होता है। कच्चे तेल के दाम अगर बढ़ते हैं तो पेट्रोल-डीज़ल के रेट भी बढ़ेंगे, लेकिन कुछ दिनों से इसकी दूसरी तस्वीर देखी जा रही है। मतलब, अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम घटने के बावजूद देश में  पेट्रोल-डीज़ल की कीमत बढ़ रही है।

     

    ऐसे तय होती है कीमत

     

    एक लीटर पेट्रोल की कीमत पर एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन और वैल्यू ऐडेड टैक्स जोड़ा जाता है। रिफाइनरी कंपनियां क्रूड ऑयल खरीदती हैं। डीलर से और केंद्र एक्साइज ड्यूटी के रूप में 32.98 रुपए लिया जाता है। जिसके बाद राज्य का वैट या बिक्री कर जोड़कर ग्राहक तक पेट्रोल-डीज़ल पहुंचता है। 

     

    कैसे तय होते हैं पेट्रोल-डीज़ल के दाम, जानें यहां

     

    हर रोज़ सुबह 6 बजे आते हैं नए दाम

     

    देश में हर सुबह 6 बजे पेट्रोल और डीज़ल के दाम अपडेट होते हैं। जून 2017 से इस नियम को लागू किया गया था। इससे पहले 3 महीने में ये बदलाव होता था। पेट्रोल-डीज़ल के नए दाम आप हर रोज़ SMS से जान सकते हैं। 

     

    • इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लि. (IOCL) के लिए RSP के साथ शहर का कोड लिखकर 9224992249 नंबर पर भेजें
    • भारत पेट्रोलियम ऑयल एंड गैस कंपनी (BPCL) के लिए RSP लिखकर 9223112222 नंबर पर भेजें

     

    सरकार का नियंत्रण नहीं

     

    अंतरराष्ट्रीय कीमतों के हिसाब से कंपनियां पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों में संशोधन करती हैं। सरकार का इस पर कोई नियंत्रण नहीं है।

     

    इस साल 21 बार दाम बढ़े 

     

    जनवरी महीने में तेल कंपनियों ने 10 बार पेट्रोल-डीज़ल के दाम बढ़ाए। फरवरी महीने में 16 तारीख तक 11 बार पेट्रोल-डीज़ल के दाम बढ़ चुके हैं।

     

    गिरावट के बाद भी दाम बढ़े

     

    अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत में करीब 13 फीसदी गिरावट के बाद भी पेट्रोल-डीज़ल के रेट बढ़े हैं। लॉकडाउन में ढील के बाद क्रूड ऑयल की कीमत 25 रुपए प्रति लीटर तक पहुंची, लेकिन फिर भी पेट्रोल के दाम 85 रुपए प्रति लीटर के ऊपर ही रहे। 16 फरवरी 2021 को कच्चे तेल की कीमत अंतराष्ट्रीय बाज़ार में करीब 63.57 रुपए प्रति लीटर रही और पेट्रोल के दाम 89. 29 रुपए प्रति लीटर रहे। 

     

    तो यह थी पेट्रोल-डीज़ल के दाम घटने-बढ़ने की बात। 

     

    इसी तरह Knitter पर आपको कृषि एवं मशीनीकरण, एजुकेशन और करियर, सरकारी योजनाओं और ग्रामीण विकास जैसे मुद्दों पर भी कई महत्वपूर्ण ब्लॉग्स मिलेंगे, जिनको पढ़कर अपना ज्ञान बढ़ा सकते हैं और दूसरों को भी इन्हें पढ़ने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।     

     

     

    ✍️ लेखक- नितिन गुप्ता 

     



    यह भी पढ़ें



    ट्रेंडिंग टॉपिक की अन्य ब्लॉग