देश सेवा का है जज्बा? NDA जॉइन कर सेना में बने अफसर

देश सेवा का है जज्बा? NDA जॉइन कर सेना में बने अफसर

अगर आप सेना में अफसर बनने का सपना देखते हैं तो आप एनडीए की परीक्षा पास कर सीधे लेफ्टिनेंट बन सकते हैं। जानें कैसे...

27 December 2020

  • 593 Views
  • 5 Min Read

  • 12वीं की पढ़ाई के बाद आपके पास ढेरों करियर ऑप्शन्स होते हैं। किसी की रुचि कंप्यूटर के क्षेत्र में होती है तो कोई कलाकार भी बनना चाहता है। वहीं, अगर आप के अंदर देश सेवा का जज्बा भरा हो तो सेना में भर्ती होना भी एक अच्छी पसंद हो सकती है। सेना में जाने के भी कई रास्ते होते हैं, लेकिन अगर आप सेना में सीधे ऑफिसर रैंक पर जॉइन करना चाहते हैं तो 12वीं पास करने के बाद एनडीए (NDA) एक अच्छा विकल्प है।

     

    एनडीए यानी नेशनल डिफेंस एकेडमी (राष्ट्रीय रक्षा अकादमी) में एडमिशन लेना युवाओं का सपना होता है। यहां पर एडमिशन हो जाने पर आप तीनों सेनाओं में से एक में सीधा लेफ्टिनेंट बन सकते हैं। ट्रेनिंग के बाद ऑफिसर बन जाने पर जहां आपको अच्छी सैलरी-सुविधाओं के साथ सेना का शौर्य और पराक्रम मिलता है, वहीं एनडीए (NDA) जॉइन करते ही आपको वेतन मिलने लगता है और आपके जीवन से सेना का अनुशासन भी जुड़ जाता है।

     

    क्या है NDA नेशनल डिफेंस एकेडमी

     

    NDA (राष्ट्रीय रक्षा अकादमी) भारतीय सशस्त्र सेना की एक संयुक्त सेवा अकादमी है, जहां तीनों सेनाओं (थल सेना, नौसेना और वायु सेना) के कैडेट्स को उनकी संबंधित अकादमी में पूर्व-कमीशन प्रशिक्षण के लिए जाने से पहले, एक साथ 3 साल तक ट्रेनिंग दी जाती है। यह महाराष्ट्र में पुणे के करीब खडकवासला में स्थित है। नेशनल डिफेंस एकेडमी ज्वाइन करने के लिए आपको एनडीए की प्रवेश परीक्षा पास करना जरूरी होता है। 

     

    क्या है योग्यता

     

    • केवल पुरुष ही आवेदन कर सकते हैं
    • उम्र 16.5 से 19 साल होनी चाहिए
    • 12वीं पास (12वीं के पेपर दे रहे छात्र भी अप्लाई कर सकते हैं) 
    • नेवी और एयरफोर्स के लिए 12वीं में गणित और फिजिक्स जरूरी
    • हाइट कम से कम 157 सेंटीमीटर होनी चाहिए और अंडरवेट ना हों
    • शारीरिक या मानसिक रूप से कोई अक्षमता ना हो
    • देखने और सुनने की क्षमता सामान्य होनी चाहिए
    • फुलाने पर चेस्ट 81 सेंटीमीटर से कम नहीं होनी चाहिए

     

    एग्जाम पैटर्न

    • एनडीए में एंट्री के लिए यूपीएससी (Union Public Service Commission) द्वारा साल में दो बार रिटन टेस्ट करवाया जाता है।
    • फॉर्म जून और दिसंबर महीने में निकलते हैं जबकि सितंबर और अप्रैल में परीक्षा होती हैं।
    • एनडीए की परीक्षा कुल 900 मार्क्स के लिए होती है, जिसमें  कुल 270 ऑब्जेक्टिव टाइप प्रश्न पूछे जाते हैं। 
    • ये परीक्षा सिर्फ ऑफलाइन माध्यम से ही ली जाती है।
    • टेस्ट को दो भागों में बांटा जाता है। दोनों के लिए ढाई-ढाई घंटे का टाइम दिया जाता है।
    • पेपर-1 गणित (Mathematics) का होता है, जिसमें 120 प्रश्न 300 नंबरों के लिए पूछे जाते हैं।
    • पेपर-2 में जनरल एबिलिटी टेस्ट(GAT) का होता है, इसमें 150 प्रश्न 600 अंकों के लिए पूछे जाते हैं।

     

    जॉइनिंग की प्रक्रिया

     

    रिटन टेस्ट में पास होने के बाद आपको एसएसबी (सर्विस सेलेक्शन बोर्ड) में इंटरव्यू राउंड के लिए बुलाया जाता है। यहां पांच दिन इंटरव्यू की प्रक्रिया चलती है। जिसमें मेडिकल टेस्ट, स्क्रीनिंग टेस्ट, साइकोलॉजिकल टेस्ट, ग्रुप डिस्कशन, फिटनेस टेस्ट और पर्सनल इंटरव्यू शामिल होते हैं। वायु सेना में जाने वाले आवेदकों की पायलट योग्यता और बैटरी टेस्ट भी लिया जाता है। सभी टेस्ट पास कर लेने के बाद आपको नेशनल डिफेंस एकेडमी में ले लिया जाता है। आपकी पसंद और मेरिट के आधार पर आपको आर्मी, नेवी या एयरफोर्स में भेजा जाता है।

     

    एनडीए के लिए हर साल करीब 3 लाख बच्चे परीक्षा देते हैं जिसमें से लगभग 10 हजार छात्रों को ही इंटरव्यू के लिए आमंत्रित किया जाता है। प्रत्येक सेमेस्टर में लगभग 300-350 कैडेट्स को ही स्वीकार किया जाता है। लगभग 40 कैडेट्स को वायु सेना, 50 को नौसेना के लिए और बाकियों को आर्मी के लिए स्वीकार किया जाता है। 

     

    ट्रेनिंग की अवधि

    एसएसबी क्लीयर करने का बाद चुने गए सभी कैडेट्स को तीन साल के लिए नेशनल डिफेंस एकेडमी खडकवासला, पुणे भेजा जाता है। 3 साल की ट्रेनिंग और पढ़ाई के बाद आर्मी कैडेट्स को एक साल भारतीय सैन्य अकादमी, देहरादून, नेवी कैडेट्स को एक साल के लिए भारतीय नौसेना अकादमी, एझिमाला और एयरफोर्स कैडेट्स को डेढ़ साल के लिए भारतीय वायु सेना अकादमी, हैदराबाद भेजा जाता है। चार से साढ़े चार साल तक ट्रेनिंग के बाद इन कैडेट्स को सीधा लेफ्टिनेंट पोस्ट पर तैनाती मिलती है।

     

    सैलरी और अन्य सुविधाएं

     

    एनडीए में सिलेक्ट होने के बाद सभी कैडेट्स को 21 हजार रुपये प्रतिमाह स्टाइपेंड के रूप में दिए जाते हैं। पास आउट होने के बाद एनडीए के लेफ्टिनेंट को 15,600- 39,100 का ग्रेड पे मिलता है। वहीं सेना को मिलने वाले अन्य सभी भत्ते और सुविधाएं दी जाती हैं।

     

    उम्मीद है इस ब्लॉग में आप जान गए होंगे कि एनडीए में जाने की प्रक्रिया और फायदे क्या हैं। अगर आप भी सेना में जाकर देश की रक्षा करना चाहते हैं तो एनडीए की परीक्षा की तैयारी शुरू कर सकते हैं।

    करियर गाइड की अन्य ब्लॉग