लड़कियों के लिए एयरफोर्स में नौकरी पाने के विकल्प

भारतीय वायु सेना में ऐसे शामिल हो सकती हैं महिलाएं

भारतीय एयरफोर्स में जाकर देश की सेवा करना कई लड़कियों का सपना होता है। इस ब्लॉग में हम जानेंगे कि महिलाओं के पास वायुसेना में जाने के क्या विकल्प हैं?

12 February 2021

  • 347 Views
  • 4 Min Read

  • ‘द कारगिल गर्ल’ गुंजन सक्सेना। कारगिल युद्ध में भारत की ओर से भाग लेने वाली इकलौती महिला और युद्ध क्षेत्र में हेलिकॉप्टर उड़ाने वाली पहली महिला पायलट। उन्होंने कारगिल युद्ध में अपने साहस का परिचय देते हुए दुश्मन की गोलीबारी के बीच द्रास और बटालिक की चोटियों से सैनिकों को सुरक्षित बचाया था। उस समय गिनी-चुनी महिलाएं सेना में जाकर सेवाएं दे पाती थीं। लेकिन, आज हजारों महिलाएं केवल वायुसेना में तैनात हैं। इनमें से कुछ महिलाएं राफेल जैसे लड़ाकू विमान भी उड़ा रही हैं और ज़रूरत होने पर वे युद्धभूमि में जाकर फाइटर जेट से दुश्मनों पर रॉकेट और मिसाइलों से हमला करेंगी।

     

    यदि आप में भी देश की सेवा का जज़्बा है और आप वायुसेना में जाकर देश सेवा करने का सपना देख रहीं हैं तो ये ब्लॉग ज़रूर पढ़ें। 

     

    एयरफोर्स में कैसे होता है लड़कियों का सिलेक्शन?

     

     

    महिलाओं के लिए परमानेंट कमीशन

     

    2020 में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला दिया है कि महिलाओं को भी भारतीय सेना में पुरुषों की तरह स्थाई कमीशन का विकल्प दिया जाएगा। वायुसेना में महिलाओं की एंट्री केवल शॉर्ट सर्विस कमीशन के तहत की जाती है, जिसके तहत अधिकतम 14 साल तक ही सेना में सेवाएं दे सकती हैं। लेकिन, अब महिलाओं के पास भी स्थाई कमीशन पाने का मौका होगा। हालांकि, ये मेरिट और वैकेंसी पर निर्भर करेगा। 

     

    वायुसेना की इन ब्रांच में सेवा दे सकती हैं महिलाएं

     

    भारतीय वायुसेना में मुख्यतः तीन शाखाएं होती हैं। फ्लाइंग ब्रांच, टेक्निकल ब्रांच और ग्राउंड ड्यूटी ब्रांच। इन सभी शाखाओं में नौकरी के लिए महिलाएं अपनी रुचि के आधार पर अप्लाई कर सकती हैं। इनके लिए अलग-अलग परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं। चलिए आपको तीन मुख्य परीक्षाओं के बारे में बताते हैं, जिनके माध्यम से महिलाएं वायुसेना में जाने का सपना पूरा कर सकती हैं।

     

    एफकैट (AFCAT)

     

    एफकैट यानी Air Force Common Admission Test के माध्यम से एयरफोर्स की तीनों शाखाओं (फ्लाइंग, टेक्निकल, ग्राउंड) के पदों पर भर्तियां करवाई जाती हैं। ये एग्ज़ाम साल में दो बार होती है। 

    एफकैट की परीक्षा देने के लिए आवेदक का अविवाहित होना ज़रूरी है और आयु सीमा 20 से 26 साल के बीच रखी गई है। इसके अलावा विभिन्न पदों पर आवेदन के लिए योग्यताएं इस प्रकार हैं-

     

    1.फ्लाइंग ब्रांच- फ्लाइंग ब्रांच में अप्लाई करने के लिए उम्मीदवार 60 प्रतिशत अंकों के साथ किसी भी विषय में ग्रेजुएट होना चाहिए। वहीं, 12वीं में 50 प्रतिशत अंकों के साथ गणित और फिजिक्स विषय ज़रूर होने चाहिए।

     

    2.टेक्निकल ब्रांच- इसके लिए भी 12वीं में 50 प्रतिशत अंकों के साथ मैथ्स और फिजिक्स विषय अनिवार्य हैं। साथ ही 60 प्रतिशत अंकों के साथ इंजीनियरिंग की डिग्री होनी चाहिए।

     

    3.ग्राउंड ब्रांच- इसके अंतर्गत नॉन टेक्निकल स्टाफ के कई पद भरे जाते हैं, जिन पर अप्लाई करने के लिए आवेदक किसी भी विषय में 60 प्रतिशत अंकों के साथ ग्रेजुएट होना चाहिए। वहीं, 12वीं में 50 प्रतिशत अंकों की अनिवार्यता भी रहेगी। इसके अंतर्गत अकॉउंट्स डिपार्टमेंट के पद भी भरे जाते हैं, जिसके लिए अभ्यर्थी की पढ़ाई कॉमर्स विषय में होनी ज़रूरी है।

    एफकैट की परीक्षा आमतौर पर हर साल फरवरी और अगस्त में होती है, जिसके लिए जून और दिसंबर में फॉर्म भरे जाते हैं। जिसके लिए आप आधिकारिक वेबसाइट https://afcat.cdac.in पर जा सकते हैं।

     

    NCC स्पेशल एंट्री

     

    एयरफोर्स में एंट्री के लिए NCC (राष्ट्रीय कैडेट कोर) की महिला कैडेट्स के लिए स्पेशल एंट्री का प्रावधान है। इसके लिए आवेदक के पास NCC एयरविंग का सीनियर डिविजन का सी सर्टिफिकेट होना चाहिए। आयु सीमा 20 से 24 के बीच होना चाहिए। वहीं, एजुकेशन की योग्यताएं लगभग एफकैट परीक्षा के समान ही हैं। लेकिन, अलग बात ये है कि NCC स्पेशल एंट्री के लिए आवेदक को कोई एग्ज़ाम  नहीं देना होती। यदि आप इसके लिए योग्यता मानदंडों को पूरा करते हैं तो  www.careerairforce.nic.in पर जाकर ‘NCC Flying Branch Entry’ ऑप्शन चेक करें।

     

    FTS एंट्री

     

    फास्ट ट्रैक सिलेक्शन (FTS) उन आवेदकों के लिए अच्छा मौका होता है, जो किन्हीं कारणों से एफकैट की परीक्षा नहीं दे पाते। इसका कोई तय शेड्यूल नहीं है। एयरफोर्स की विभिन्न शाखाओं के खाली होने पर ये प्रक्रिया अपनाई जाती है। इसका नोटिफिकेशन इंडियन एयर फोर्स की आधिकारिक वेबसाइट पर दिया जाता है और तय तारीख को परीक्षा सेंटर्स पर ऑन द स्पॉट रजिस्ट्रेशन किया जाता है। इसकी योग्यताएं और परीक्षा का सिलेबस एफकैट जैसा ही होता है। प्रारंभिक परीक्षा क्लियर करने पर आवेदकों को आगे के इम्तिहान के लिए एयरफोर्स के सेंटर्स पर बुलाया जाता है।

     

    तो ये उन लड़कियों के लिए कुछ बुनियादी जानकारी थी, जो आसमान में उड़ने का सपना देखती हैं और देश की रक्षा करना चाहती है। उम्मीद है आपके सपनों को निटर के इस ब्लॉग के माध्यम से एक सही राह मिलेगी।

     

    लेखक -मोहित वर्मा 

     

    करियर गाइड की अन्य ब्लॉग