अगरबत्ती का बिज़नेस लगाएगा आपके माथे पर मुनाफे का चंदन

अगरबत्ती का बिज़नेस लगाएगा आपके माथे पर मुनाफे का चंदन

अगरबत्ती का बिज़नेस (Incense Stick Business) ग्रामीण क्षेत्रों में रोज़गार के नए अवसर पैदा कर सकता है। आइए, इस बिज़नेस को समझने का प्रयास करते हैं।

21 January 2021

  • 930 Views
  • 6 Min Read

  • “मैं ज़िंदगी का साथ निभाता चला गया, हर फिक्र को धुएं में उड़ाता चला गया…” साहिर लुधियानवी का लिखा ये गीत इतना पॉपुलर है कि आज की जेनरेशन भी इस गाने को उसी शिद्दत से गुनगुनाती है। आप सोच रहे होंगे कि बिज़नेस से जुड़े इस ब्लॉग में लुधियानवी साहब का क्या काम? तो बता दें कि आज हम जिस बिज़नेस के बारे में बात करेंगे उसमें ये गीत बिल्कुल फिट बैठता है क्योंकि इस बिज़नेस को शुरू करने के बाद रोज़गार और आजीविका से जुड़ी आपकी टेंशन भी धुएं में उड़ जाएगी। 

     

    आज ‘बिज़नेस और रोज़गार’ की हमारी श्रृंखला में हम आपको अगरबत्ती (Incense Sticks) बिज़नेस के बारे में बताएंगे। हम बताएंगे कि कैसे ये बिज़नेस आपके और आपके परिवार की आर्थिक परेशानियों को दूर करने में मदद कर सकता है। तो चलिए ब्लॉग को आगे बढ़ाते हैं। लेकिन आगे बढ़ने से पहले ये भी जान लेते हैं कि आपको इस ब्लॉग में अगरबत्ती (Incense Sticks) बिज़नेस से जुड़ी क्या-क्या जानकारियां मिलेंगी?

     

    आपको बता दें कि इस ब्लॉग में हम आपको कई चीज़ें बताएंगे, जैसे-

    · अगरबत्ती (Incense Sticks) बिज़नेस क्या है?

    · अगरबत्ती (Incense Sticks) के बिज़नेस में स्कोप क्या है?

    · अगरबत्ती (Incense Sticks) बिज़नेस कैसे शुरू किया जा सकता है?

    · अगरबत्ती बिज़नेस के लिए ज़रूरी क्या है? 

    · अगरबत्ती (Incense Sticks) बनाने की विधि क्या है?

    · अगरबत्ती बिज़नेस (Incense Sticks) में कितनी लागत व मैनपावर की ज़रूरत पड़ेगी?

    · अगरबत्ती बिज़नेस (Incense Sticks) में मुनाफा कितना होगा?

    · अगरबत्ती (Incense Sticks) बिज़नेस पर एक्सपर्ट की राय क्या है?

     

    आज इस ब्लॉग के ज़रिए हम आपके मन में उठने वाले इन सारे सवालों का जवाब देंगे। तो चलिए जानकारियों का ये सफर शुरू करते हैं।

     

    अगरबत्ती के बिज़नेस को समझें 

    इसके तहत अगरबत्ती बनाने का काम किया जाता है और बाज़ार में उन्हें बेचा जाता है। कुछ लोग हाथों से अगरबत्ती बनाते हैं तो कुछ मशीन की मदद से इस काम को अंजाम देते हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में करीब 80 प्रतिशत महिलाएं अगरबत्ती बनाने का काम करती हैं। लिहाज़ा महिलाओं के लिए भी ये बिज़नेस अच्छा विकल्प हो सकता है।

     

    अगरबत्ती के बिज़नेस में स्कोप:

    · साल भर डिमांड रहती है

    · त्यौहारों में बिक्री बढ़ जाती है।

    · घरेलू मांग के अनुपात में उत्पादन अब भी कम है।

    · धार्मिक स्थलों में इसका सर्वाधिक उपयोग होता है।

    · कुछ लोग इसे रूम फ्रेशनर्स के विकल्प के तौर पर भी यूज़ करते हैं।

    · इस बिज़नेस के लिए बहुत कम इन्वेस्टमेंट चाहिए।

     

     

    अच्छी कमाई के लिए करें अगरबत्ती का बिज़नेस

     

    ऐसे शुरू करें ये बिज़नेस:

    बीते कुछ सालों में भारत में बिज़नेस करना बहुत आसान हुआ है। सरकार भी नए बिज़नेस को सपोर्ट कर रही है। ऐसे में अगरबत्ती का बिज़नेस शुरू करने लिए यह एक अच्छा वक्त है। इसके लिए आपको कुछ ज़रूरी प्रक्रियाओं से होकर गुज़रना होगा जिसकी जानकारी आपको इस ब्लॉग में मिल जाएगी। तो चलिए, जानते हैं कैसे शुरू किया जा सकता है अगरबत्ती का बिज़नेस?

     

    लाइसेंस/रजिस्ट्रेशन (Licence/Registration):

    इस बिज़नेस को शुरू करने से पहले आपको स्थानीय प्रशासन से ट्रेड लाइसेंस लेने की आवश्यकता पड़ेगी। आप नगर निगम या नगर पालिका में इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त आपको कंपनी रजिस्ट्रार (ROC) के दफ्तर में भी रजिस्टर करना होगा। साथ ही ट्रेडमार्क लेना आपके बिज़नेस के लिए फायदेमंद रहेगा।

     

    जगह की आवश्यकता (Space Required):  

    500 से 1000 स्क्वायर फीट का एरिया इस बिज़नेस के लिए काफी है।

     

    मशीनरी (Machinery): 

    बाज़ार में आपको हर तरह की मशीन मिल जाएगी। सबकुछ आपके बजट और चॉइस पर निर्भर करता है।

     

    · मैनुअल मशीन (Manual Machine)- इसकी मदद से आप प्रतिदिन करीब 10-15 किलो अगरबत्ती बना सकते हैं। हालांकि इस पर काम करना आपके लिए थकान भरा हो सकता है।

    · सेमी-ऑटोमैटिक मशीन (Semi-Automatic Machine)- ये मशीन आपका काम आसान बना देती है। हालांकि बांस की स्टिक मशीन में डालने के लिए एक व्यक्ति को हर पल रहना ही पड़ता है।

    · ऑटोमैटिक मशीन (Automatic Machine)- ये प्रोडक्शन के लिहाज़ से एक बेहतर विकल्प है। ऑटोमैटिक मशीन की मदद से आप दिन में 60 से 70 किलो तक अगरबत्ती बना सकते हैं।

     

    रॉ मटेरियल (Raw Material):

    · कोयले का पाउडर (Premixed Coal Powder)

    · बुरादा (Sawdust)

    · जिगट (Jigat)

    · बांस की स्टिक (Bamboo Sticks)

    · परफ्यूम (Perfume)

    · डाइएथिल थैलेट (Diethyl Phthalate)

    · ऐसेंशियल ऑयल (Essential Oil)

    · कलर पाउडर (Colour Powder)

    · पैकिंग मटेरियल (Packing Material)

     

    मैनपावर (Manpower):

    इस काम के लिए एक व्यक्ति ही काफी है। हालांकि डिमांड और प्रोडक्शन को ध्यान में रखते हुए आप इस काम के लिए किसी को रख भी सकते हैं। 

     

     

    अच्छी कमाई के लिए करें अगरबत्ती का बिज़नेस

     

    अगरबत्ती (Incense Sticks) बनाने की विधि:

    सबसे पहले कोयला पाउडर और बुरादे को एक निश्चित मात्रा में मिक्स किया जाता है। यदि आप 5 किलो का मिश्रण तैयार करते हैं, तो उसमें करीब 1 किलो जिगट मिलाने की आवश्यकता पड़ेगी। जिगट किसी बाइंडिंग एजेंट यानि गोंद की तरह काम करता है। इसके बाद इस मिश्रण को छान लिया जाता है। अब इस मिश्रण में पानी मिलाया जाता है। एक किलो मिश्रण में करीब 600 ग्राम पानी की आवश्यकता पड़ती है। इस लिहाज़ से देखें, तो 6 किलो के कुल मिश्रण में करीब 3600 ग्राम पानी डाला जाता है।

     

    अब मिश्रण को मिक्सर मशीन में करीब 5-7 मिनट तक मिक्स किया जाता है। इस तरह आपके अगरबत्ती का मसाला तैयार हो जाता है और उसे मशीन में डाला जाता है, जहां अगरबत्तियां तैयार होती हैं।

     

    इसके बाद आती है अगरबत्ती को खुशबू देने की बारी। इसके लिए 1 लीटर परफ्यूम में 4 किलो डाइएथिल थैलेट (Diethyl Phthalate) को मिलाया जाता है। इसे करीब 3 दिन तक अलग रख दिया जाता है। फिर अगरबत्ती को इस खुशबूदार मिश्रण में डिप किया जाता है। इसके बाद करीब 2-3 दिन तक उसे कूलर की मदद से सुखाया जाता है। कुछ लोग ड्रायर की मदद से भी अगरबत्तियां सुखाते हैं। अंत में अगरबत्तियां छांटी जाती हैं और उन्हें पैक किया जाता है।

     

    लागत (Cost):

    अगरबत्ती का बिज़नेस 20 से 30 हज़ार के छोटे से निवेश के साथ शुरू किया जा सकता है। हालांकि जानकारों का मानना है कि सेमी-ऑटोमैटिक या ऑटोमैटिक मशीन एक ज़्यादा बेहतर विकल्प है। यदि आप सेमी ऑटोमैटिक मशीन लगाना चाहते हैं तो आपको 60 से 70 हज़ार तक खर्च करने पड़ेंगे। वहीं यदि आप ऑटोमैटिक मशीन लगाना चाहते हैं तो आपको तकरीबन 1 लाख का निवेश करना होगा।  

     

    मुनाफा (Profit):

    अन्य बिज़नेस की तुलना में अगरबत्ती के कारोबार में मार्जिन अच्छा है। इस बिज़नेस में करीब 35-40 प्रतिशत का मार्जिन आसानी से कमाया जा सकता है। कई लोग 50 प्रतिशत तक का मुनाफा भी कमा लेते हैं।

     

    लोन और सब्सिडी (Loan & Subsidy): 

    अपने बिज़नेस की शुरुआत के लिए आप किसी नेशनल बैंक या प्राइवेट बैंक से लोन के लिए संपर्क कर सकते हैं। वहीं, MSME  द्वारा भी नये बिज़नेस को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाएं चलाई जाती हैं। आप MSME की वेबसाइट https://msme.gov.in/ पर रजिस्टर करके या फिर 011-23063288 या 011-23063643 नंबर पर कॉल करके इस संबंध में जानकारी ले सकते हैं।  

     

    हमें उम्मीद है कि आपको Knitter का यह ब्लॉग पसंद आया होगा। Knitter पर आपको बिज़नेस के अलावा कृषि एवं मशीनीकरण, एजुकेशन और करियर, सरकारी योजनाओं और ग्रामीण विकास जैसे मुद्दों पर भी कई महत्वपूर्ण ब्लॉग्स मिल जाएंगे। आप इन ब्लॉग्स को पढ़कर अपना ज्ञान बढ़ा सकते हैं और दूसरों को भी इन्हें पढ़ने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।  

    ✍️    

    लेखक-कुंदन भूत 



    यह भी पढ़ें



    स्मार्ट बिज़नेस की अन्य ब्लॉग