SSC CPO एग्ज़ामः जानें पुलिस में अफसर बनने के चुनिंदा तरीके

SSC CPO एग्ज़ामः दिल्ली पुलिस का हिस्सा बनकर संवारे करियर

SSC-CPO एग्ज़ाम पुलिस भर्ती के लिए होती है। इस ब्लॉग में एग्ज़ाम की तैयारी, पैटर्न और अवसर के बारे में बात होगी।

03 February 2021

  • 289 Views
  • 5 Min Read

  • क्या आप पुलिस सेवा में जाना चाहते हैं? क्या आप भी केंद्रीय पुलिस संगठन सेवा का हिस्सा बनना चाहते हैं? यदि आपका जवाब हां है तो SSC CPO Exam इसका बेहतरीन विकल्प साबित हो सकता है। आप सोच रहे होंगे कि ऐसा क्यों? ऐसा इसलिए क्योंकि, इसके ज़रिए आप दिल्ली पुलिस के साथ-साथ CAPF में सब-इंस्पेक्टर या असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर बन सकते हैं।

     

    KNITTER के इस ब्लॉग में आज हम आपके लिए लेकर आए हैं रोज़गार के कुछ ऐसे ही सुनहरे अवसरों की बानगी। इसके बूते न सिर्फ आप सरकारी नौकरी हासिल कर सकते हैं बल्कि इसी बहाने आपको देशसेवा का भी मौका मिल जाएगा। तो फिर देर किस बात की है। चलिए शुरू करते हैं रोज़गार तक पहुंचाने वाले इस ब्लॉग का सफर। यहां आप जानेंगे-

     

    SSC CPO Exam क्या है?

    • इस परीक्षा का पैटर्न और सिलेबस कैसा है?
    • इसे पास करने के तरीके क्या हैं?
    • इसके ज़रिए कहां-कहां नौकरी मिल सकती है?
    • इसमें आवेदन करके लिए योग्यताएं क्या-क्या हैं?

     

    सबसे पहले बात SSC CPO Exam की। यहां SSC से आशय STAFF SELECTION COMMISSION यानी केंद्रीय चयन आयोग से है। जबकि CPO का मतलब CENTRAL POLICE ORGANISATION यानी केंद्रीय पुलिस संगठन से है। इस परीक्षा के द्वारा आवेदक के पास दिल्ली पुलिस सेवा के अलावा CAPF में सब-इंस्पेक्टर या असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर बनने का मौका होता है।

     

    आप सोच रहे होंगे कि ये CAPF क्या है?

     

    आपको बता दें कि सुरक्षा के लिहाज़ से यह बेहद महत्वपूर्ण अंग है। CAPF से आशय CENTRAL ARMED POLICE FORCE से है। इसके अंतर्गत 7 सुरक्षा बल काम करते हैं। इनका नेतृत्व भारत सरकार का गृह मंत्रालय करता है। अब बात उन 7 अर्धसैनिक बलों की, जो CAPF का हिस्सा हैं। चयनित अभ्यर्थियों के पास इन सुरक्षा बलों में काम करने का मौका होता है।

     

    BSF  - BORDER SECURITY FORCE

    CRPH - CENTRAL RESERVE POLICE FORCE

    CISF - CENTRAL INDUSTRIAL SECURITY FORCE

    ITBP - INDO-TIBETAN BORDER POLICE

    NSG - NATIONAL SECURITY GUARD

    AR   - ASSAM RIFLES

    SSB  - SASHASTRA SEEMA BAL

     

    यहां ध्यान देने वाली दो बातें प्रमुख हैं-

    1.वैसे तो CAPF का नेतृत्व एक IPS (INDIAN POLICE SERVICE) अफसर करता है। मगर, प्रत्येक सुरक्षा बल का अपना कैडर भी होता है।

    2.CAPF की दो विंग NSG (NATIONAL SECURITY GUARD) और AR (ASSAM RIFLES) में भर्ती SSC CPO Exam से नहीं होती।

     

    आवश्यक योग्यताएं

    • मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी विषय में स्नातक डिग्री
    • दिल्ली पुलिस में सब-इंस्पेक्टर बनने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस अनिवार्य
    •  केवल पुरुषों के लिए ड्राइविंग लाइसेंस अनिवार्य, महिलाओं के लिए नहीं
    • आवेदन के लिए कम से कम 20 साल और अधिकतम 25 साल उम्र ज़रूरी
    • ओबीसी/एक्स-सर्विसमैन वर्ग के लिए ऊपरी आयु सीमा में 3 साल की छूट
    •  एससी/एसटी वर्ग के अभ्यर्थियों को ऊपरी आयु सीमा में 5 साल की छूट 

     

    फिज़िकल फिटनेस अनिवार्य

     

    पुलिस सेवा में अभ्यर्थियों के लिए फिज़िकल फिटनेस अनिवार्य होती है। पुरुष और महिला दोनों के लिए। इसे दो पैमानों पर जांचा जाता है। एक फिज़िकल स्टैंडर्ड टेस्ट (PST) और दूसरा फिज़िकल एंड्युरेंस टेस्ट (PET)। दोनों का आयोजन CAPF के द्वारा किया जाता है।

     

    फिज़िकल स्टैंडर्ड टेस्ट

    •  सामान्य वर्ग के पुरुष अभ्यर्थियों के लिए न्यूनतम ऊंचाई 170 सेमी अनिवार्य
    • अनुसूचित जनजाति के पुरुष अभ्यर्थियों के लिए न्यूनतम ऊंचाई 162.5 सेमी अनिवार्य
    • सामान्य वर्ग की महिला अभ्यर्थियों के लिए न्यूनतम ऊंचाई 157 सेमी अनिवार्य
    • अनुसूचित जनजाति के पुरुष अभ्यर्थियों के लिए न्यूनतम ऊंचाई 154 सेमी अनिवार्य
    • पुरुष और महिला अभ्यर्थियों का वज़न उनकी ऊंचाई के अनुपात में होना चाहिए

     

    फिज़िकल एंड्युरेंस टेस्ट

     

    • शारीरिक दक्षता परीक्षा के लिए अभ्यर्थियों को लॉन्ग जम्प, हाई जम्प और शॉट पुट और दौड़ में हिस्सा लेना होता है।
    • सभी अभ्यर्थियों को दौड़ नियत समय में पूरी करना होती है जबकि लॉन्ग जम्प, हाई जम्प और शॉट पुट के लिए सभी को 3 मौके दिए जाते हैं।
    • पुरुष अभ्यर्थियों को 16 सेकंड में 100 मीटर और 6.5 मिनट में 1.6 किमी दौड़ पूरी करना होती है।
    • महिला अभ्यर्थियों को 18 सेकंड में 100 मीटर और 4 मिनट में 800 मीटर दौड़ पूरी करना होती है।

     

    SSC CPO Exam का पैटर्न और सिलेबस

    • लिखित परीक्षा में दो पेपर होते हैं। दोनों ही ऑब्जेक्टिव मल्टीपल चॉइस पैटर्न पर होते हैं। परीक्षा ऑनलाइन होती है।
    • हर पेपर के 200 अंक होते हैं। इसे हल करने के लिए 2 घंटे मिलते हैं। हर सवाल का एक अंक है। गलत जवाब के 0.25 अंक काटे जाते हैं।
    • पहले पेपर में सामान्य बुद्धि और तर्क, सामान्य ज्ञान और जागरूकता, रीज़निंग और अंग्रेज़ी से जुड़े सवाल पूछे जाते हैं।
    • दूसरा पेपर केवल एक ही विषय का होता है। वह विषय अंग्रेज़ी है।

     

    चयन प्रक्रिया

    • जितने आवेदकों के आवेदन सही पाए जाते हैं, उन्हें परीक्षा का मौका मिलता है। यह ऑब्जेक्टिव पेपर होता है, जिसमें 200 अंक होते हैं।
    • सफल अभ्यर्थियों को अंकों के आधार पर फिज़िकल स्टैंडर्ड टेस्ट (PST) और फिज़िकल एंड्युरेंस टेस्ट (PET) के लिए चुना जाता है।
    • नौकरी के लिए चयनित होने के लिए इन दोनों टेस्ट में पास होना अभ्यर्थियों के लिए अनिवार्य है। बिना इसके चयन असंभव है।
    • एक्स-सर्विसमैन को PET देने की ज़रूरत नहीं मगर PST देना होगा। इन दोनों टेस्ट के नंबर नहीं दिए जाते हैं।
    • इन दोनों टेस्ट में पास होने वाले अभ्यर्थियों को ही दूसरा पेपर देने का अवसर मिलता है। यह अंग्रेज़ी भाषा का होता है।
    • इसमें सफल होने के बाद अभ्यर्थी का विस्तृत मेडिकल परीक्षण होता है। इसके बाद फिट अभ्यर्थी को दस्तावेज़ सत्यापन के लिए बुलाया जाता है।

     

    पास करने का तरीका

     

    शिक्षक गजेंद्र कुमार यादव के मुताबिक, इस परीक्षा को पास करने के लिए प्रतियोगी को चाहिए कि अंग्रेज़ी, मैथ्स और रीजनिंग की तैयारी अच्छे से करे। कारण कि स्कूली परीक्षा में आप पास होने मात्र के लिए उस विषय को पढ़ लेते हैं, मगर जब बात प्रतियोगी परीक्षा की हो तो फिर मामला अलग हो जाता है। उसके हिसाब से तैयारी पुख्ता होना ज़रूरी है। इस परीक्षा में अंग्रेज़ी की तैयारी सफलता तय करने में अहम भूमिका निभाएगी।

     

     

     

    ऐसे करें आवेदन

     

    आवेदन की प्रक्रिया पूरी तरह ऑनलाइन है। अभ्यर्थी कर्मचारी चयन आयोग की वेबसाइट https://ssc.nic.in/ पर जाकर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। परीक्षा से जुड़ी बाकी जानकारियां भी ले सकते हैं।

     

     

    SSC CPO एग्ज़ामः जानें तैयारी और पास करने के नायाब तरीके

     

     

    लेखक- हिमांशु दुबे         



    यह भी पढ़ें



    करियर गाइड की अन्य ब्लॉग