फर्राटेदार अंग्रेज़ी बोलना सीखिए और संवारिए अपना करियर

फर्राटेदार अंग्रेज़ी से हासिल कीजिए अच्छे रोज़गार के अवसर

फर्राटेदार अंग्रेज़ी लोगों पर प्रभाव जमाने के अलावा बेहतर करियर में भी मददगार है। इस ब्लॉग में अंग्रेज़ी बेहतर बनाने पर बात होगी।

22 February 2021

  • 155 Views
  • 3 Min Read

  • अंग्रेज़ी का प्रभाव समय के साथ तेज़ी से बढ़ता जा रहा है। फिर बात स्कूल की हो या कॉलेज की। घर की हो या बाज़ार की। बिज़नेस की हो या प्रोफेशनल लाइफ की। हर जगह अंग्रेज़ी की मांग है। यही वजह है कि हर किसी की कोशिश होती है कि इस भाषा पर बेहतर पकड़ बना सके ताकि करियर में सफलता मिल जाए। Knitter के इस ब्लॉग में आज हम आपके लिए लेकर आए हैं अंग्रेज़ी से जुड़ी कुछ बातें, जिनके बूते आप भी फर्राटेदार अंग्रेज़ी (fluent english) बोलने में सफलता हासिल कर सकेंगे।

     

    यहां आप जानेंगे-

     

    • अंग्रेज़ी बेहतर करने के मददगार तरीके कौन-कौन से हैं?
    • अंग्रेज़ी सीखने में सबसे बड़ी अड़चनें कौन-कौन सी हैं?
    • इस दौरान किन-किन बातों का ध्यान रखना ज़रूरी है?

     

    फर्राटेदार अंग्रेज़ी में छिपा है सुनहरे भविष्य का रास्ता, ऐसे सीखें

     

    गलती करने से न डरें

     

    अंग्रेज़ी का नाम आते ही ज़्यादातर लोगों के पसीने छूटने लगते हैं। इससे बनती बात भी बिगड़ जाती है। यहां ज़रूरी है कि आप बेझिझक अपनी बात अंग्रेज़ी में कहें। ध्यान रखें कि लोगों को आपकी बात समझाना ज़्यादा ज़रूरी है। ना कि उसके सामने आपके व्याकरण ज्ञान और मजबूत शब्दकोष का प्रदर्शन करना।

     

    ध्यान से सुनें, फिर बोलें

     

    वैसे यह बात तो हर जगह लागू होती है कि कुछ भी कहने से पहले सुनना चाहिए ताकि गड़बड़ न हो। मगर अंग्रेज़ी के मामले में सुनना फायदे का सौदा है। इससे आपको ज़्यादा सीखने का मौका मिलता है। कारण कि जितना ज़्यादा आप लोगों को अंग्रेज़ी बोलते सुनेंगे, उतना बेहतर आप अपनी बात रख पाएंगे।

     

    अंग्रेज़ी में सोचना शुरू करें

     

    ठीकठाक अंग्रेज़ी से बेहतर अंग्रेज़ी बोलने तक का सफर पूरा करने के लिए ज़रूरी है कि आप अंग्रेज़ी में ही सोचना शुरू करें। इससे होगा यह कि आप और भी ज़्यादा बेहतर ढंग से अपनी बात रख पाएंगे।  आमतौर पर हम अपनी मातृभाषा में अच्छी बात करते हैं। ज़रूरत इस बात की है कि अंग्रेज़ी को पहली भाषा बनाएं।

     

    अभ्यास में है सफलता का राज़

     

    अभ्यास करने से सफलता मिलने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। यह बात तो सभी लोग पढ़ते-सुनते आए हैं। मगर अंग्रेज़ी के मामले में यह नुस्खा रामबाण की तरह है। आप जितना ज़्यादा अभ्यास करेंगे, अंग्रेज़ी उतनी ज़्यादा बेहतर होती जाएगी। दूसरा आप जो भी बोल रहे हैं, उसका फीडबैक अच्छे जानकार से लेते रहें।

     

    अपने आप से बात कीजिए

     

    सुनने-पढ़ने में यह बात आपको पहली बार में अजीब लग सकती है। मगर विशेषज्ञ मानते हैं कि जितना ज़्यादा आप अंग्रेज़ी में खुद से बात करेंगे, उतना ज़्यादा आपके बोलने के तरीके में सुधार आएगा। आईने के सामने खड़े होकर बोलने का अभ्यास कीजिए। आप पाएंगे कि बहुत तेज़ी से सुधार आएगा।

     

    व्याकरण रटने के बजाए तरीका समझें

     

    कई मौकों पर यह देखा गया है कि स्टूडेंट्स अक्सर व्याकरण रटने की कोशिश करने लगते हैं। यह सोचकर कि इससे भाषा विशेष पर पकड़ बन जाएगी। अंग्रेज़ी के साथ भी ऐसा ही कुछ होता है। हालांकि, यह बात पूरी तरह कारगर नहीं है। इससे बेहतर है कि आप सीधे अंग्रेज़ी समझने का प्रयास करें तो फायदा मिलेगा।

     

    अंग्रेज़ी टीवी शो और गाने देखें

     

    पहली बार में आपको यह तरीका अजीब लग सकता है कि भला जब कुछ समझ ही नहीं आएगा तो फिर ऐसा कोई टीवी शो और गाने देखने में समय क्यों खराब करना। मगर, एक बार आज़माकर देखिए। इस दो फायदे होंगे। पहला आपका शब्दकोष बढ़ेगा और दूसरा बोलने वाले का तरीका भी जान पाएंगे।

     

     वेबसाइट्स और एजुकेशन ऐप्स की मदद लें

     

    अब तो इंटरनेट का ज़माना है। कई विषयों को सीखने-समझने के लिए अनेक वेबसाइट्स और मोबाइल ऐप्स भी मौजूद हैं। स्टूडेंट्स इनकी मदद से भी अंग्रेज़ी को बोलने-समझने-लिखने के बेहतर तरीके सीख सकते हैं। वह भी बिल्कुल मुफ्त।

     

    अंग्रेज़ी में बात करने के टॉपिक्स

     

    वैसे तो आप कई विषयों पर अंग्रेज़ी में बात कर सकते हैं। मगर, यहां हम केवल शुरुआती स्तर पर किए जाने वाले अभ्यास की बात कर रहे हैं।

     

    सामान्य बातचीत, जिसमें नौकरी और पसंद-नापसंद की बात हो

    • घर के काम, सेहत से जुड़े विषय और किसी प्लान की बात हो
    • रहन-सहन, मनोरंजन और संस्कृति के बारे में बात हो
    • आधुनिक समाज, राजनीति, देश और दुनिया की बात हो

     

    एक और तरीका है

     

    अंग्रेज़ी सीखने के लिए वैसे तो कई तरीके मौजूद हैं। मगर, उनमें से एक यह तरीका काफी कारगर माना जाता है। इसे विशेषज्ञों की भाषा में To Fluency Method कहा जाता है। इसकी कुछ स्टेप होती हैं, जो इस प्रकार है।

     

    • वाक्य को सुनें।
    • सुने हुए वाक्य को दोहराएं। उसे रिकॉर्ड करें।
    • रिकॉर्ड किए वाक्य को सुनें। ओरिजनल वाक्य को सुनें।
    • जो भी अंतर दिखे, उसे ठीक करन की कोशिश करें।
    • लगातार यह अभ्यास करते रहें। फायदा दिखेगा।

     

    बोलने का अभ्यास कैसे करें?

     

    यह वो सवाल है, जो तमाम तरह की कोशिशों के बाद भी जस का तस बना रहता है। ऐसा होना लाज़िमी भी है। कारण कि बिना इस अभ्यास के अंग्रेज़ी भाषा पर आपकी पकड़ इतनी आसानी से नहीं बन सकती हैं, जैसी आप चाहते हैं। इसके लिए तीन विकल्प बेहतरीन साबित हो सकते हैं। वे हैं-

     

    • कोई शिक्षक खोज लें और सीखें
    • किसी कोचिंग क्लास से जुड़ें और सीखें
    • ऐसा ग्रुप जॉइन करें, जहां अंग्रेज़ी में बात हो

     

    अंग्रेज़ी का बढ़ता दायरा

    • दुनिया के 67 देशों में अंग्रेज़ी आधिकारिक भाषा
    • विश्व में 40 करोड़ लोग जिनकी मूल भाषा अंग्रेज़ी
    • अंग्रेज़ी तीसरी सबसे ज़्यादा बोली जाने वाली भाषा

     

    अंग्रेज़ी से जुड़े रोचक तथ्य

    • अंग्रेज़ी को व्यापार की भाषा माना जाता है
    • अमेरिका और ब्रिटेन दो प्रमुख अंग्रेज़ी भाषी देश
    • मंदारिन और स्पेनिश के बाद अंग्रेज़ी का तीसरा स्थान

     

    लेखक- हिमांशु दुबे

     



    यह भी पढ़ें



    करियर गाइड की अन्य ब्लॉग