नौकरियां पाने में BCA बनाएगा आपकी राह आसान

BCA के बाद आपको मिल सकती हैं ये नौकरियां

आईटी और कंप्यूटर के क्षेत्र में नौकरी की चाह रखने वालों के लिए BCA एक अच्छा ऑप्शन है। आइए, इससे जुड़े कुछ खास विकल्पों पर नज़र डालें।

23 March 2021

  • 285 Views
  • 3 Min Read

  • जब से इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (IT) ने हमारे जीवन में दस्तक दी है, हमारी पूरी दुनिया ही बदल गई है। कल तक जो चीज़ें अकल्पनीय सी लगती थीं, आज वो हकीकत में तब्दील हो चुकी हैं। इस बदलाव में कंप्यूटर्स की महत्वपूर्ण भूमिका रही है, जिसे आप और हम बिल्कुल भी नकार नहीं सकते हैं।

     

    आईटी इंडस्ट्री में आए बूम ने कंप्यूटर और उससे जुड़े काम करने वालों के लिए नई संभावनाएं पेश की और इसी बीच बैचलर इन कंप्यूटर एप्लीकेशन (BCA) जैसे कोर्स के लिए स्टूडेंट्स की दिलचस्पी भी बढ़ने लगी। आज, आलम ये है कि आईटी और कंप्यूटर फील्ड से जुड़े प्रोफेशन में कदम रखने के लिए स्टूडेंट्स सबसे पहले इसी कोर्स को तवज्जो देते हैं।

     

    आज Knitter के इस ब्लॉग में हम इसी कोर्स के बारे में बात करेंगे। हम आपको बताएंगे कि BCA क्या है? और इसमें करियर को लेकर क्या संभावनाएं हैं? तो चलिए, आगे बढ़ते हैं और जानते हैं कि यहां आपको क्या-क्या बातें जानने को मिलेंगी?

     

    नौकरियां पाने में BCA बनाएगा आपकी राह आसान

     

    आप जानेंगे-

     

    • बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन (BCA) क्या है?
    • इसमें क्या पढ़ाया जाता है?
    • इस क्षेत्र में कौन से करियर विकल्प मौजूद हैं?
    • BCA के बाद किन सेक्टर्स में नौकरियां मिलती हैं?

     

    BCA कोर्स पर एक नज़र

     

    ये एक अंडर ग्रेजुएट कोर्स है, जिसे आप 12वीं पास करने के बाद कर सकते हैं। इसमें कंप्यूटर और कंप्यूटर लैंग्वेज के अलावा प्रोग्रामिंग से जुड़ी पढ़ाई होती है। इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में करियर तलाशने वालों के लिए ये एक अच्छा विकल्प है। 

     

    3 साल का यह कोर्स आपको आईटी और उससे जुड़े दूसरे अहम प्रोफेशन्स के लिए तैयार करता है। यहां तक कि कई सरकारी नौकरियों में भी ये कोर्स मददगार है।

     

    BCA में होती है ये पढ़ाई

     

    • कंप्यूटर फंडामेंटल्स
    • नेटवर्किंग
    • साइबर कानून
    • मल्टीमीडिया सिस्टम
    • विज़ुअल बेसिक
    • PHP
    • जावा
    • वेब डेवलपमेंट

     

    इन सबके अलावा और भी बहुत सारी चीज़ें पढ़ाई जाती हैं।

     

    BCA के लिए योग्यता:

     

    • मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं पास
    • मिनिमम 50 प्रतिशत अंक ज़रूरी
    • इंग्लिश सब्जेक्ट अनिवार्य
    • आर्ट्स और कॉमर्स के स्टूडेंट्स भी हैं योग्य

     

    हालांकि, अलग-अलग कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में पासिंग मार्क्स और एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया में थोड़े-बहुत बदलाव देखने को मिल सकते हैं। कुछ संस्थाएं मेरिट के आधार पर स्टूडेंट्स का सिलेक्शन करती हैं, तो कुछ प्रवेश परीक्षाओं और इंटरव्यू के आधार पर चयन करती हैं।

     

    BCA से जुड़े पॉपुलर करियर विकल्प:

     

    कंप्यूटर इंजीनियर

     

    ये कंप्यूटर फील्ड के वो एक्सपर्ट्स होते हैं, जो हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर प्रोग्राम्स डेवलप करते हैं। कंप्यूटर के लिए एप्लीकेशन तैयार करने में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका होती है। साथ ही उनकी फंक्शनिंग का दारोमदार भी इन्हीं पर होता है। अपने मोबाइल फोन पर हम जो एप्लीकेशन आदि देखते हैं, उनके पीछे इन्हीं का हाथ होता है। वायरलेस नेटवर्क, रोबोटिक्स और ऑपरेटिंग सिस्टम पर भी इनकी मज़बूत पकड़ होती है।

     

    इन क्षेत्रों में मिलती हैं नौकरियां

     

    • आईटी कंपनियां
    • बैंक
    • मीडिया और एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री
    • रिसर्च लैब
    • फाइनेंस कंपनियां
    • सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियां
    • विज्ञापन एजेंसियां और डिजिटल फर्म्स

     

    वेब डिज़ाइनर

     

    कंप्यूटर ऑपरेशन्स के क्षेत्र में इनकी भारी डिमांड है। ये वेबसाइट के हर पहलू पर काम करते हैं। फिर चाहे वो ले-आउट तैयार करना हो, वेबसाइट की डिज़ाइनिंग हो या फिर वेब पेज तैयार करना। HTML और जावा जैसे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में इनकी गहरी पकड़ होती है।

     

    वेबसाइट को किस तरह से यूज़र-फ्रेंडली और अपीलिंग बनाया जा सकता है, इसका सारा ज़िम्मा वेब डिज़ाइनर्स पर ही होता है। संक्षेप में कहें, तो ये वेबसाइट के डिज़ाइन और दृश्यात्मक पहलुओं के जनक होते हैं।

     

    इन क्षेत्रों में मिलती हैं नौकरियां

     

    • डिज़ाइन स्टूडियो
    • विज्ञापन एजेंसियां
    • पब्लिशिंग हाउस
    • शैक्षणिक संस्थान
    • सॉफ्टवेयर कंपनियां
    • मीडिया एजेंसियां
    • ऑडियो-विज़ुअल कंपनियां

     

    कंप्यूटर प्रोग्रामर

     

    ये कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के महारथी होते हैं। ये कोड तैयार करते हैं, जिनसे हमारे कंप्यूटर एप्लीकेशन रन करते हैं। ये सॉफ्टवेयर प्रोग्राम और ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए कोड लिखते हैं, ज़रूरत पड़ने पर उनमें बदलाव भी करते हैं। ये एक तरह का इंस्ट्रक्शन मॉडल तैयार करते हैं, जिसे कंप्यूटर फॉलो करता है। सामान्य शब्दों में कहें, तो कंप्यूटर प्रोग्राम को 100 परसेंट एरर-फ्री बनाने की ज़िम्मेदारी इन्हीं के कंधों पर होती है।

     

    इन क्षेत्रों में मिलती हैं नौकरियां

     

    • आईटी
    • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस
    • मशीन लर्निंग
    • कंप्यूटर सिक्योरिटी
    • फाइनेंस इंडस्ट्री
    • हेल्थकेयर आदि

     

    नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर

     

    ये कंप्यूटर नेटवर्क के जानकार होते हैं। किसी कंपनी या संस्था में मौजूद कंप्यूटर नेटवर्क इंफ्रास्ट्रक्चर के संचालन में इनकी अहम भूमिका होती है। सिस्टम में क्या इंस्टॉल होगा? कौन से प्रोग्राम यूज़ किए जाएंगे? नेटवर्क कैसे काम करेगा? ये और इस जैसे दूसरे काम को संभालना नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर की ज़िम्मेदारी होती है। इसके अलावा यदि कंप्यूटर के सिस्टम में और नेटवर्क में किसी भी प्रकार की प्रॉब्लम आती है, तो ये उसे सॉल्व करते हैं।

     

    इन क्षेत्रों में मिलती हैं नौकरियां

     

    • कॉलेज और विश्वविद्यालय
    • राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी संस्थाएं
    • आर्किटेक्चर और इंजीनियरिंग फर्म
    • एम्प्लॉयमेंट फर्म
    • कंसल्टिंग एजेंसियां
    • मैनेजमेंट फर्म

     

    सॉफ्टवेयर टेस्टर

     

    सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट और उसके संचालन में इनका सबसे बड़ा हाथ होता है। ये सॉफ्टवेयर प्रोग्राम्स को सुचारू तरीके से चलाने के लिए मैनुअल और ऑटोमेटेड टेस्ट करते हैं। फ्रंट-एंड टेस्टिंग, बैक-एंड टेस्टिंग, सिस्टम टेस्टिंग और सिक्योरिटी टेस्टिंग जैसे ढेरों टेस्ट करके ये एक एरर-फ्री प्रोडक्ट तैयार करने में मदद करते हैं। ये समय-समय पर सिस्टम और सॉफ्टवेयर के लिए मुश्किलें खड़ी करने वाले बग्स (bugs) की पहचान करते हैं और उन्हें दूर करते हैं। कंप्यूटर सिस्टम और प्रोग्राम तय मानकों पर खरे उतरे, इसके लिए ये लगातार काम करते रहते हैं। 

     

    इन क्षेत्रों में मिलती हैं नौकरियां

     

    • आईटी
    • हेल्थ केयर
    • मीडिया
    • फाइनेंस
    • टेलीकम्युनिकेशन्स
    • निजी व सरकारी कंपनियां

     

    वेब डेवलपर

     

    लोग ‘वेब डेवलपर’ और ‘वेब डिज़ाइनर’ के काम को लेकर अक्सर कंफ्यूज़ रहते हैं। वेब डेवलपर का काम वेब डिज़ाइनर के कॉन्सेप्ट को अमलीजामा पहनाना होता है। ये वेबसाइट का फ्रेमवर्क तैयार करने के अलावा उसकी फंक्शनिंग का भी ख्याल रखते हैं। आपको ये अलग-अलग भूमिकाओं में नज़र आ सकते हैं। आप इन्हें बैक-एंड डेवलपमेंट, फ्रंट-एंड डेवलपमेंट और फुल-स्टैक डेवलपमेंट जैसे काम करते हुए देख सकते हैं।

     

    इन क्षेत्रों में मिलती हैं नौकरियां

     

    • विज्ञापन एजेंसियां
    • पब्लिशिंग हाउस
    • आईटी इंडस्ट्री
    • डिज़ाइन स्टूडियो
    • जनसंपर्क
    • टेक्निकल कंसल्टिंग फर्म

     

    सॉफ्टवेयर इंजीनियर

     

    ये आईटी क्षेत्र के सबसे पॉपुलर प्रोफेशन्स में से एक है। सॉफ्टवेयर इंजीनियर्स सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट से लेकर उसके मेंटेनेंस तक का सारा काम देखते हैं। ये टेस्टिंग और डिज़ाइनिंग के पहलुओं का भी ख्याल रखते हैं। वहीं, सॉफ्टवेयर के तकनीकी पहलुओं की इन्हें सबसे ज़्यादा जानकारियां होती हैं। 

     

    फिर चाहे वो टेस्ट हो, प्रोटोटाइप हो या फिर कुछ और। आप और हम जितने भी वेब एप्लीकेशन्स, ऑपरेटिंग सिस्टम्स और वीडियो गेम्स आदि देखते हैं, उनके पीछे कहीं न कहीं इन्हीं का हाथ होता है। प्रोग्रामिंग लैंग्वेज, डेटाबेस और टेक्नोलॉजी के माध्यम से ये एक बेहतरीन प्रोडक्ट तैयार करते हैं।

     

    इन क्षेत्रों में मिलती हैं नौकरियां

     

    • इंश्योरेंस सेक्टर
    • स्टार्ट-अप
    • बैंकिंग
    • आईटी कंपनियां
    • बहुराष्ट्रीय कंपनियां

     

    इन सबके अलावा आप सिस्टम एडमिनिस्ट्रेटर, डेस्कटॉप पब्लिशर, ड्राफ्टर, इंडस्ट्रियल डिज़ाइनर्, मल्टीमीडिया आर्टिस्ट जैसे दूसरे प्रोफेशन भी चुन सकते हैं। BCA आपको रोज़गार के कई अवसरों के लिए तैयार करता है। हालांकि, बताए गए कुछ प्रोफेशन्स के लिए आपको कुछ अतिरिक्त स्किल सेट डेवलप करने की ज़रूरत पड़ सकती है। लेकिन, BCA उसका एक मज़बूत आधार तैयार करने में मदद करता है।

     

    हमें उम्मीद है कि आपको Knitter का यह ब्लॉग पसंद आया होगा। यहां आपको बिज़नेस, कृषि एवं मशीनीकरण, एजुकेशन और करियर, सरकारी योजनाओं और ग्रामीण विकास जैसे मुद्दों पर कई महत्वपूर्ण ब्लॉग्स मिलेंगे। आप इनको पढ़कर अपना ज्ञान बढ़ा सकते हैं और दूसरों को भी इन्हें पढ़ने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

     

     

    लेखक- कुंदन भूत

     



    यह भी पढ़ें



    करियर गाइड की अन्य ब्लॉग