देश के टॉप कॉलेजों में पढ़ने के हैं ढेरों फायदे

देश के टॉप कॉलेजों में पढ़ने के हैं ढेरों फायदे

देश के टॉप कॉलेजों में पढ़कर स्टूडेंट्स अपने भविष्य को नई दिशा दे सकते हैं। आइए जानते हैं, ऐसी ही कुछ बातों को जो आपके करियर के लिए लाभदायक साबित हो सके।

04 January 2021

  • 752 Views
  • 10 Min Read

  • हायर सेकेंडरी की पढ़ाई के बाद स्टूडेंट की सबसे बड़ी दुविधा होती है, एक अच्छा कॉलेज या एजुकेशन इंस्टीट्यूशन तलाशना। लेकिन, ज़्यादातर स्टूडेंट्स गाइडेंस और जानकारियों के अभाव में सही फैसला नहीं ले पाते। छात्र न चाहते हुए भी अपने शहर या गांव के करीब किसी भी कॉलेज या इंस्टीट्यूशन में एडमिशन ले लेते हैं। लेकिन, यहां सवाल ये उठता है कि उनका जल्दबाज़ी में इस तरह किसी भी कॉलेज या एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन में एडमिशन लेना कितना सही है?

     

    आज Knitter के इस ब्लॉग में हम स्टूडेंट्स के जीवन के इसी पहलू पर प्रकाश डालेंगे और बताएंगे कि उन्हें किसी भी सामान्य कॉलेज या इंस्टीट्यूशन की बजाय, क्यों देश के टॉप कॉलेज या एजुकेशन इंस्टीट्यूशन्स में दाखिले की कोशिश करना चाहिए। हम बताएंगे कि किस तरह ये टॉप इंस्टीट्यूशन्स स्टूडेंट्स के भविष्य को दिशा देने में मदद करते हैं। तो चलिए, जानकारियों के इस सफर की शुरुआत करते हैं और जानते हैं कि इंडिया के टॉप कॉलेज या इंस्टीट्यूशन में पढ़ना स्टूडेंट्स के लिए क्यों ज़रूरी है? आइए, इस पर एक नज़र डालें।

     

    स्टूडेंट्स मनचाही स्ट्रीम चुन सकते हैं:

     

    अक्सर देखा जाता है कि स्थानीय स्तर पर खोले गए कॉलेजों में स्टूडेंट्स को अपनी मनचाही स्ट्रीम चुनने का विकल्प नहीं मिलता है। अधिकतर कॉलेजों में या तो वो स्ट्रीम या सब्जेक्ट नहीं होता है या फिर अगर भूले से वो स्ट्रीम हुई भी, तो उसके मुताबिक प्रॉपर इंफ्रास्ट्रक्चर या कोई फैकल्टी नहीं होती है। इन दोनों ही स्थिति में नुकसान स्टूडेंट को ही उठाना पड़ता है।

     

    वहीं दूसरी ओर देश के प्रतिष्ठित व टॉप कॉलेजों में स्टूडेंट्स को इन परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता है। उन्हें अपनी मनचाही स्ट्रीम के अलावा उससे जुड़े ढेरों अन्य विकल्प भी मिल जाते हैं, जिससे उन्हें सही फैसले लेने में मदद मिलती है।

     

    अच्छी शिक्षा मिलती है:

     

    किसी भी कॉलेज या इंस्टीट्यूशन में स्टूडेंट का एडमिशन तब बेमानी हो जाता है, जब वहां अच्छी पढ़ाई नहीं होती। देश में कई ऐसे कॉलेज हैं जहां स्टूडेंट्स को पढ़ाई के नाम पर ज़्यादा कुछ नहीं मिलता। वे जल्दबाज़ी में एडमिशन तो ले लेते हैं, लेकिन कुछ ही समय में उन्हें असलियत का पता चलता है। जब तक वे इस सच्चाई से परिचित हो पाते हैं, बहुत देर हो जाती है। एक तो वो अपने कोर्स की पूरी फीस भर चुके होते हैं और दूसरा अन्य किसी कॉलेज में एडमिशन का वक्त निकल गया होता है। ऐसी स्थिति में स्टूडेंट के पास ज़्यादा कुछ करने को नहीं होता और वह न चाहते हुए भी वहां अपनी पढ़ाई पूरी करता है।  

     

    लेकिन, यदि आप किसी टॉप के कॉलेज में दाखिला लेते हैं तो आप निश्चिंत होकर अपनी पढ़ाई पूरी कर पाते हैं। अच्छी पढ़ाई के साथ-साथ आप दूसरी अच्छी चीज़ें भी सीखते हैं।

     

    प्रॉपर एजुकेशन इंफ्रास्ट्रक्चर मिलता है: 

     

    बड़े व प्रतिष्ठित संस्थानों का एजुकेशन इंफ्रास्ट्रक्चर ही उनकी USP होती है। यहां स्टूडेंट को हर वो सुविधा मिलती है जो उसके ओवर ऑल ग्रोथ में मदद करती है। उसे अच्छे क्लास रूम्स मिलते हैं, हाइटेक लैबोरेटरीज़ मिलती हैं, लाइब्रेरी, हॉस्टल व कैन्टीन जैसी वो तमाम सुविधाएं मिलती हैं, जो उसकी पढ़ाई  में मददगार साबित होते हैं।  

     

    उन्हें एक्सपोज़र मिलता है:

     

    ये बात सही है कि हर स्टूडेंट IIT या IIM क्रैक नहीं कर सकता है। लेकिन, इनके अलावा भी देश में सैकड़ों ऐसे एजुकेशन इंस्टीट्यूट हैं, जहां टॉप क्लास पढ़ाई होती है और स्डूडेंट्स को बेहतर एक्सपोज़र मिलता है। उन्हें देश और दुनिया से आए  बच्चों से घुलने-मिलने का मौका मिलता है। वे जान पाते हैं कि देश के विभिन्न राज्यों में या विदेशों में क्या चल रहा है? वहां संस्कृति कैसी है, रहन-सहन कैसा है? ये सारी चीज़ें स्टूडेंट की शैक्षिक दक्षता के साथ-साथ उसके मानवीय विकास को भी बल देती हैं। वहीं, ऐसे एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स में सही टैलेंट को ही जगह मिलती है। लिहाज़ा आपके पास देश के सबसे टैलेंटेड स्टूडेंट्स के साथ पढ़ने-लिखने का मौका होता है और यहीं आप अन्यों के मुकाबले बाज़ी मार लेते हैं।

     

    इंटर्नशिप के अवसर मिलते हैं:

     

    प्रतिष्ठित इंस्टीट्यूशन्स में स्टूडेंट्स की इंटर्नशिप पर विशेष फोकस किया जाता है। उन्हें पढ़ाई के दौरान ही इंटर्नशिप आदि के लिए वक्त दिया जाता है। यहां तक कि आपको इंटर्नशिप दिलाने में भी मदद की जाती है। इससे स्टूडेंट्स को प्रोफेशनल दुनिया को जानने और समझने का मौका मिलता है। वहीं, ऐसी इंटर्नशिप के चलते स्टूडेंट्स नए स्किल्स सीख पाते हैं, जो आगे चलकर उनका करियर बिल्ड करने में मदद करती हैं।

     

    टॉप क्लास फैकल्टी मिलती है:

     

    अच्छी पढ़ाई के लिए अच्छे टीचर्स की ज़रूरत होती है और टॉप एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स इस बात पर सबसे ज़्यादा ध्यान देते हैं। यही वजह है कि वे देश के बेस्ट टीचर्स को अपॉइन्ट करते हैं। अक्सर बड़े-बड़े PhD स्कॉलर्स को इस काम के लिए चुना जाता है। ये न सिर्फ स्टूडेंट्स को अच्छी शिक्षा देते हैं, बल्कि उन्हें सही मार्गदर्शन भी प्रदान करते हैं।

     

    प्लेसमेंट सेल की सुविधा भी होती है:

     

    संभवतः आज के समय में ये एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स और स्टूडेंट्स दोनों की आवश्यकता बन गई है। प्लेसमेंट सेल्स का काम स्टूडेंट को सही कंपनियों तक पहुंचाना होता है। वे देश और दुनिया की कई बड़ी कंपनियों के साथ जुड़े रहते हैं, ताकि उनकी रिक्रूटमेंट ड्राइव का फायदा स्टूडेंट्स को मिले। इन्हीं प्लेसमेंट सेल्स की बदौलत ही स्टूडेंट्स का कैंपस सेलेक्शन हो पाता है और वे अपने करियर को नई दिशा दे पाते हैं। यहां बताना ज़रूरी है कि कंपनियां कैंपस सेलेक्शन के दौरान स्टूडेंट को बड़े-बड़े पैकेज ऑफर करती हैं।

     

    कल्चरल फेस्टिवल्स का फायदा मिलता है:

     

    बड़े और नामी इंस्टीट्यूशन्स में स्टूडेंट्स के लिए समय-समय पर कल्चरल फेस्टिवल आदि आयोजित किए जाते हैं। इनमें देश भर के स्टूडेंट हिस्सा लेते हैं। इस दौरान कई कॉम्पिटिशन के अलावा कल्चरल ऐक्टिविटीज़ भी होती हैं, जिससे स्टूडेंट्स को बहुत कुछ सीखने को मिलता है। वहीं, इस तरह के आयोजन से उनके सिर से पढ़ाई का बोझ भी काफी हद तक कम हो जाता है, जो कि स्टूडेंट्स के लिए बहुत ज़रूरी है।

     

    देश के टॉप कॉलेजों में पढ़ने के  फायदे

     

    इन पहलुओं को तो आपने जान लिया। अब ये जानते हैं कि इन इंस्टीट्यूशन्स में पढ़ना आपके जीवन को कैसे बदलता है? चलिए समझने का प्रयास करते हैं।

     

    दृष्टिकोण में बदलाव

     

    आप जब एक निश्चित स्थान या फिर किसी निश्चित वर्ग के लोगों के बीच रहते हैं, तो आपके सोचने का दायरा भी सीमित ही रहता है। लेकिन, जैसे ही आप अलग-अलग लोगों से मिलते हैं, उनकी सोच और उनकी अप्रोच को देखते हैं, उनकी संस्कृति से परिचित होते हैं, तो आपके दृष्टिकोण में बदलाव आने लगता है। आप एक नया नज़रिया अपनाते हैं और अपने आस-पास की सभी चीज़ों को एक नए ऐंगल से देखते हैं। ये बदलाव आपको एक बेहतर इंसान बनने में मदद करता है।

     

    अवेयरनेस

     

    ऐसा माना जाता है कि अवेयरनेस सफलता की सबसे बड़ी कुंजी है। जो व्यक्ति अपने आस-पास के लोगों, हालातों और चीज़ों से अवेयर रहता है, वो जीवन में कभी गलत फैसले नहीं लेता है। आप जब ऐसे संस्थानों में पढ़ते हैं, तो आपको अलग-अलग विचार, राजनीतिक और सामाजिक दृष्टिकोण रखने वाले लोग मिलते हैं। इन्हीं के बीच रहकर आप जान पाते हैं कि क्या सही है और क्या गलत। यदि ऐसा न हो तो इंसान एक ही धारणा लिए आगे बढ़ता है, जो कि उसके विकास में बाधक बन सकता है।

     

    कनेक्शन्स बिल्ड होते हैं

     

    आप जब बड़े कॉलेजों या इंस्टीट्यूशन का हिस्सा बनते हैं, तो आपको देश और दुनिया के लोगों से कनेक्ट होने का मौका मिलता है। हो सकता है कि आप जिस क्लास में हों, वहां 10-15 अलग-अलग राज्य के बच्चे पढ़ने आए हों। आप उनसे मिलते हैं, उनसे दोस्ती करते हैं और उन्हें करीब से समझने की कोशिश करते हैं। इस तरह आपका एक नया कनेक्शन बिल्ड हो जाता है। वहीं, कॉलेज के सीनियर्स और प्रोफेसर्स से भी आप अच्छी तरह से जुड़ पाते हैं। ये आपका अपना नेटवर्क होता है जो जीवन भर आपके साथ होता है।

     

    पर्सनालिटी डेवलपमेंट-

     

    जब आप बड़े संस्थानों में पढ़ते हैं तो इसका असर आपके व्यक्तित्व पर भी पड़ता है। आपके जीवन को एक नया आकार मिलता है। आपके बोलने और काम करने के तरीके भी बेहतर हो जाते हैं। आप खुद को जान पाते हैं, अपनी ताकत और कमज़ोरियों से अवगत हो पाते हैं। इस तरह आपकी पर्सनालिटी डेवलप होती है। 

     

    संक्षेप में कहें, तो बड़े वे प्रतिष्ठित एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स में पढ़कर स्टूडेंट्स का सर्वांगीण विकास होता है। अपनी पढ़ाई के दौरान वे नई चीज़ें सीखते हैं, लोगों को बेहतर तरीके से समझते हैं और प्रोफेशनल लाइफ के मायने भी जान पाते हैं। यही वो चीज़ें हैं जो जीवन को सफल बनाने में मदद भी करती हैं।

     

    हमें उम्मीद है कि आपको एजुकेशन और करियर पर लिखा Knitter का यह ब्लॉग पसंद आया होगा। इस ब्लॉग में हमने कॉलेज की ओर रुख कर रहे स्टूडेंट्स का मार्गदर्शन करने का प्रयास किया है। हमने बताया कि वो कैसे देश के टॉप कॉलेजों में पढ़कर अच्छी शिक्षा हासिल कर सकते हैं? बड़े व प्रतिष्ठित इंस्टीट्यूशन्स में पढ़कर उन्हें क्या फायदे मिलेंगे? और वो कैसे अपने जीवन को दिशा दे सकेंगे?

     

    हम आशा करते हैं कि आप Knitter के साथ यूं ही बने रहेंगे और हमारे इंटरेस्टिंग ब्लॉग्स पढ़ते रहेंगे।  

     

    आपको बता दें कि Knitter पर आपको एजुकेशन और करियर के अलावा कृषि एवं मशीनीकरण, सरकारी योजनाओं और ग्रामीण विकास जैसे मुद्दों पर भी कई महत्वपूर्ण ब्लॉग्स मिल जाएंगे। आप इन ब्लॉग्स को पढ़कर अपना ज्ञान बढ़ा सकते हैं और दूसरों को भी इन्हें पढ़ने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।



    यह भी पढ़ें



    करियर गाइड की अन्य ब्लॉग