जानें, स्वस्थ मिट्टी (Soil) से किसानों को क्या लाभ मिलता है

जानें, स्वस्थ मिट्टी (Soil) खेतों के लिए क्यों है ज़रूरी?

मिट्टी का बेहतर स्वास्थ्य हमारे खेतों और किसानों के लिए बहुत ज़रूरी है। इस ब्लॉग में हम मिट्टी के अच्छे स्वास्थ्य और उससे होने वाले फ़ायदों पर प्रकाश डालेंगे।

03 October 2020

  • 864 Views
  • 5 Min Read

  • अंग्रेज़ी में एक कहावत है “Health is Wealth.” मतलब, स्वास्थ्य ही असली धन है। ये कहावत इन्सानों के अलावा हमारे खेतों की मिट्टी (Soil) पर भी फिट बैठती है क्योंकि मिट्टी स्वस्थ होगी, तभी पैदावार अच्छी होगी और अगर पैदावार अच्छी होगी, तभी हमारे किसानों की मुस्कुराहट बड़ी होगी। तो चलिए, आज इस ब्लॉग के ज़रिए मिट्टी के स्वास्थ्य (Soil health) का भी एक छोटा सा चेक अप कर लेते हैं। साथ ही यह जानने की कोशिश करते हैं कि मिट्टी के स्वास्थ्य को बरकरार (maintaining soil health) रखने के फायदे क्या-क्या हैं? अब सीधे पॉइन्ट पर आते हैं, और पहला फायदा बताते हैं।

     

    बेहतर उत्पादन क्षमता व अच्छी उपज:

    यह बात सौ आने सच है कि स्वस्थ मिट्टी खेतों के लिए किसी वरदान की तरह है। मिट्टी जब स्वस्थ होती है, तो फसलों को भरपूर पोषण मिलता है। फसलों की खुराक-पानी का सारा दारोमदार मिट्टी की क्वालिटी पर ही निर्भर करता है। वहीं, मिट्टी पौधों की जड़ों को भी मज़बूती प्रदान करती है। मिट्टी से संतुलित पोषण पाकर ही फसलों का विकास होता है और किसानों को अच्छी उपज मिलती है।

     

    सिंचाई का पूरा लाभ मिलता है:

    किसानों को सिंचाई का पूरा लाभ तभी मिलता है जब मिट्टी की क्वालिटी अच्छी होती है। मिट्टी जितनी स्वस्थ होगी, सिंचाई उतनी ही बेहतर होगी। यहां स्वस्थ मिट्टी से हमारा मतलब उसमें मौजूद सूक्ष्मजीवों (micro organisms), खनिजों एवं कार्बनिक पदार्थों (organic matter) तथा पोषक तत्वों (nutrients) के संतुलन से है। जब तक मिट्टी में इन सभी तत्वों का सही संतुलन नहीं होता है, सिंचाई भी उतनी प्रभावी तरीके से नहीं हो पाती है। स्वस्थ मिट्टी के छिद्र पानी को बांधे रखते हैं और मिट्टी में मौजूद दूसरे आवश्यक तत्व उसे फसलों तक पहुंचाते हैं। इससे फसल अच्छी होती है और किसान चिंता मुक्त रहते हैं। 

     

    स्वस्थ मिट्टी से फसलों का बचाव संभव हो पाता है

    जिस तरह इन्सान के शरीर का इम्यून सिस्टम काम करता है, बिल्कुल उसी तरह मिट्टी का भी अपना सिस्टम होता है, जिससे फसलों आदि के बचाव में मदद मिलती है। मिट्टी के अंदर मौजूद खनिज व कार्बनिक पदार्थ तथा अन्य पोषक तत्व (nutrients) कीटों की रोकथाम करते हैं। कम बारिश या सूखे की स्थिति में लंबे समय तक मिट्टी की नमी बरकरार रखते हैं और फसल संबंधी बीमारियों को रोकने में मदद करते हैं। इसलिए फसलों को नुकसान से बचाने के लिए मिट्टी की क्वालिटी को बरकरार रखना बहुत ज़रूरी है।

     

    फर्टिलाइज़रों (fertilizers) का पूरा लाभ मिलता है:

    फसलों के सही विकास के लिए फर्टिलाइज़र आदि का उपयोग किया जाता है। लेकिन ये फर्टिलाइज़र व खाद तब ज़्यादा असरदार साबित होते हैं जब उसे मिट्टी का साथ मिलता है और मिट्टी का साथ उन्हें तब मिलता है, जब वह स्वस्थ होती है। ऐसा इसलिए क्योंकि स्वस्थ मिट्टी के सारे तत्व एक संतुलन बनाकर फसलों के विकास में मदद करते हैं। यही वजह है कि फर्टिलाइज़र आदि के चुनाव से पूर्व मिट्टी के पोषक तत्वों की जांच के लिए सॉइल टेस्टिंग (soil testing) की जाती है।

     

     

     

     

    हम आशा करते हैं कि हमारा यह ब्लॉग किसान भाइयों को मिट्टी के स्वास्थ्य पर नया दृष्टिकोण अपनाने के लिए प्रेरित करेगा। अपने अगले ब्लॉग में हम आपको ये बताएंगे कि मिट्टी की जांच से किसानों को क्या जानकारियां मिलती हैं और उनसे उन्हें क्या लाभ मिलते हैं।

     

    ब्लॉग की प्रमुख बातें

    ·        स्वस्थ मिट्टी फसलों को संतुलित व सही पोषण प्रदान करती है।

    ·        मिट्टी के बेहतर स्वास्थ्य से ही सिंचाई का पूरा लाभ मिलता है।

    ·        स्वस्थ मिट्टी फसलों को कीटों और बीमारियों से बचाती है।

    ·        मिट्टी के पोषक तत्व फर्टिलाइज़र को और अधिक प्रभावी बनाते हैं।

     



    यह भी पढ़ें



    कृषि की अन्य ब्लॉग